माता-पिता ने 'जिंदा बेटी' की शोक पत्रिका छपवा कर रख दिया मृत्यु भोज, जानें पूरा मामला

बेटी ने प्रेम विवाह करने के बाद माता-पिता को पहचान से इंकार किया, तो आहत परिजनों ने उसके नाम का शौक संदेश छपवाकर समाज के लोगों को आमंत्रित कर दिया. यह अनूठा शौक संदेश अब सोशल मीडियां पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसको लेकर लोग तरह-तरह की चर्चाएं भी कर रहे.

माता-पिता ने 'जिंदा बेटी' की शोक पत्रिका छपवा कर रख दिया मृत्यु भोज, जानें पूरा मामला

अब यह शोक संदेश जब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल

भीलवाड़ा:

राजस्‍थान के भीलवाड़ा जिले के हमीरगढ़ थाना क्षेत्र के रतनपुरा ग्राम के नारायण लाल लाठी की पोत्री और भेरूलाल की पुत्री ने अपने परिजनों के खिलाफ अपनी पसंद के अपनी ही जाति के युवक के साथ घर से भाग गई. इसी से ख़फ़ा परिजनों ने उसके 1 जून 2023 को स्वर्गवास की खबर के साथ 13 जून 2023 को प्रातः 9:00 पीहर की गोरनी यानी मृत्यु भोज का कार्यक्रम तय कर दिया. 
            
दरअसल, हुआ यह कि रतनपुरा ग्राम की लड़की अपने परिजनों की मर्जी के खिलाफ अपनी पसंद के युवक के साथ घर से भाग गई. इस पर परिजनों ने हमीरगढ़ थाने में प्रिया की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई. पुलिस ने जब प्रिया को ढूंढ कर परिजनों की मौजूदगी में उससे बात की, तो उसने अपने परिजनों को पहचानने से साफ इनकार कर दिया और अपने प्रेमी के साथ चली गई. तब से ही परिजनों ने यह कह दिया कि हमारी बेटी तो मर चुकी है और उन्होंने शोक संदेश भी छपवा दिया. 

अब यह शोक संदेश जब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ, तो लोग अलग-अलग तरह से अपनी भावनाएं व्‍यक्‍त कर रहे हैं. लड़की के छोटे भाई ने बताया कि मेरी बहन प्रेमी लड़के के साथ चली गई थी, जिससे माता-पिता बहुत आहत हुए.  इसी को लेकर उन्होंने यह शोक पत्रिका छपवा कर मृत्यु भोज रख दिया है. 
          
हमीरगढ़ थाना प्रभारी भंवर लाल चौधरी ने बताया कि 15 दिन पूर्व लड़की के पिता भेरूलाल ने थाने में अपनी बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी और उसके प्रेमी, लड़के की गुमशुदगी रिपोर्ट भीलवाड़ा के सदर थाने में दर्ज हुई थी. लड़की की प्रेमी के साथ पहले सगाई होकर टूट चुकी थी और अब वह उसी के साथ रहना चाहती थी, इसीलिए वह उसके साथ भाग गई. लड़की को ढूंढ कर जब पुलिस ने उसके माता-पिता को थाने में बुलाया, तो लड़की ने अपने माता-पिता को पहचानने से इनकार करते हुए प्रेमी के साथ जाने की इच्छा जता दी. तब से ही उसके परिजन खफा हो गए और उसकी शोक पत्रिका छपवा कर समाज में बांट दिया कि जब हमारी बेटी ने हमें पहचानने से इनकार कर दिया, तब हमारे लिए मर चुकी है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें :-