"स्ट्रैटेजिक रॉकेट फोर्स के निर्माण पर काम कर रहे थे जनरल रावत ": नेवी और आर्मी चीफ ने पहले CDS की बताईं खास बातें

8 दिसंबर, 2021 को जनरल रावत अपनी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य लोगों के साथ तमिलनाडु के कुन्नूर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में अपनी जान गंवा बैठे.

8 दिसंबर, 2021 को जनरल रावत जनरल बिपिन रावत की मौत हो गई. (फाइल फोटो)

सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने शनिवार को भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) दिवंगत जनरल बिपिन रावत को याद किया और कहा कि उनमें असीम ऊर्जा थी.

जनरल बिपिन रावत मेमोरियल इवेंट को संबोधित करते हुए सेना प्रमुख ने पहले सीडीएस के साथ एक घटना साझा की और कहा, "जनरल रावत में असीम ऊर्जा थी. जब मैं तेजपुर में था, तो हमें एक एक्सरसाइज के लिए तवांग जाना था, लेकिन मौसम अच्छा नहीं था. तब जनरल रावत ने कहा कि हम वहां जाएंगे और रात भर ड्राइव करेंगे और अगली सुबह एक्सरसाइज शुरू करेंगे. एक्सरसाइज समाप्त कर हम फिर से 14 घंटे ड्राइव करके वापस आए."

नेवी चीफ एडमिरल आर हरि कुमार ने कहा कि जनरल बिपिन रावत स्ट्रैटेजिक रॉकेट फोर्स के निर्माण पर काम कर रहे थे.
नौसेना प्रमुख ने कहा, "वह उन प्रमुख लोगों में से एक थे, जिन्होंने अग्निपथ योजना की अवधारणा में योगदान दिया था और इसके नट और बोल्ट पर काम कर रहे थे. इस योजना को इस साल के मध्य में शुरू किया गया है."

8 दिसंबर, 2021 को जनरल रावत अपनी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य लोगों के साथ तमिलनाडु के कुन्नूर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में अपनी जान गंवा बैठे.

शनिवार को, भारत के पहले सीडीएस की पहली पुण्यतिथि मनाने के लिए, नई दिल्ली में यूनाइटेड सर्विस इंस्टीट्यूशन ऑफ इंडिया (यूएसआई) में रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट द्वारा जनरल रावत की प्रतिमा का अनावरण किया गया.

यह भी पढ़ें-

हिमाचल के मुख्यमंत्री होंगे सुखविंदर सिंह सुक्खू, मुकेश अग्निहोत्री बनेंगे डिप्टी सीएम, आज लेंगे शपथ
इन खूबियों की वजह से सुखविंदर सिंह सुक्खू ने CM पद की रेस में प्रतिद्वंदियों को पछाड़ा, पढ़ें 10 बातें
बच्चों को जरूर सिखाएं गुड और बैड टच में फर्क : CJI

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com