ग्रामीण प्रगति और शहरी विकास के प्रेरणा स्रोत थे महात्मा गांधी: के. चंद्रशेखर राव

केसीआर ने कहा कि आप बुद्धिजीवी हैं, मैं चाहता हूं कि आप सभी इस बारे में सोचें कि इस समय हमारे देश में आपकी आंखों के सामने क्या हो रहा है. हम समकालीन समाज में भागीदार हैं, हमारी जिम्मेदारी है. हमें चुप नहीं रहना चाहिए,

ग्रामीण प्रगति और शहरी विकास के प्रेरणा स्रोत थे महात्मा गांधी: के. चंद्रशेखर राव

तेलंगाना:

तेलगांना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने गांधी जयंती के मौके पर रविवार को एमजी रोड सिकंदराबाद में पुनर्निर्मित गांधी पार्क और गांधी जी की सुशोभित प्रतिमा का उद्घाटन किया. बाद में सीएम केसीआर गांधी अस्पताल पहुंचे. मुख्यमंत्री ने वहां स्थापित गांधीजी की 16 फीट की प्रतिमा का अनावरण किया. उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि महात्मा गांधी का सिद्धांत कि सभी मानव जाति को अहिंसा, शांति और भाईचारे से रहना चाहिए, हमेशा सार्वभौमिक और शाश्वत है. इसे कोई मिटा नहीं सकता.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां गांधी की प्रतिमा सर्वशक्तिमान ईश्वर से प्रार्थना करते हुए दिखाई देती है कि दुनिया की सारी मानवता स्वास्थ्य, शांति और भाईचारे के साथ समृद्ध हो. महात्मा जितने महान हैं, अहिंसा, शांति, धार्मिकता, सेवा, आत्म-बलिदान का सिद्धांत जो उन्होंने प्रतिपादित किया, वह एक सार्वभौमिक सिद्धांत है. महात्मा गांधी, उस युग के व्यक्ति थे जिन्होंने दुनिया को अहिंसा के सिद्धांत से प्रभावित किया, जैसे गौतम बुद्ध और ईसा मसीह.

केसीआर ने कहा कि गांधी चाहे चरखा बुनें, सूत कातें, झुग्गी-झोपड़ियों को झाड़ू से साफ करें, उपवास शुरू करें, नमक सत्याग्रह करें, वे जो कुछ भी करते हैं तो वह संदेश है. गांधी का हर शब्द, हर कदम, हर क्रिया व्यावहारिक थी. मुख्यमंत्री ने गांधी की प्रतिमा स्थापित करने वाले मंत्री श्रीनिवास यादव और उनकी टीम की तारीफ की. उन्होंने कहा कि हमारा देश गांधी के रास्ते पर खड़ा है. दुनिया आज उथल-पुथल की स्थिति में है.

एक बार जब मैं तेलंगाना के गठन के लिए निकला तो मेरा बहुत उपहास भी हुआ. ऐसे लोग हैं जिन्होंने मेरा बुरी तरह मजाक उड़ाया. जब मुझे इस तरह के अपमान और ताने सुनने पड़ते थे तो मैं आंखें बंद करके महात्मा गांधी के बारे में सोचता था. हमने गांधी के दिखाए रास्ते पर लड़ाई लड़ी और तेलंगाना हासिल किया. हम अहिंसा के उसी रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं.

केसीआर ने कहा कि महात्मा द्वारा बताए गए स्वच्छता के लिए हम ग्रामीण विकास और शहरी विकास कार्यक्रमों को लेकर आगे बढ़ रहे हैं. महात्मा गांधी ग्रामीण प्रगति और शहरी प्रगति के प्रेरणा स्रोत थे. ऐसे महान संदर्भ में समकालीन समाज, प्रवृत्तियों और अंतर्विरोधों के बारे में हमें सोचना चाहिए.

उन्होंने कहा कि अगर देश अच्छा है, समाज अच्छा है, अगर दुनिया में शांति और सद्भाव है, तो हम सभी एक आरामदायक जीवन जी सकते हैं. हमारे पास कितनी भी संपत्ति और मंजिलें हों, शांति नहीं होने पर जीवन बहुत कठिन है.  भारत में कुछ लोग महात्मा को बदनाम करते हैं तो दिल दुखता है, खून खौलता है. समाज को बांटने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. 

केसीआर ने कहा कि आप बुद्धिजीवी हैं, मैं चाहता हूं कि आप सभी इस बारे में सोचें कि इस समय हमारे देश में आपकी आंखों के सामने क्या हो रहा है. हम समकालीन समाज में भागीदार हैं, हमारी जिम्मेदारी है. हमें चुप नहीं रहना चाहिए, हमें बुराई की निंदा करनी चाहिए. गलती की आलोचना करें. तभी स्वस्थ्य समाज का निर्माण होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       

उन्होंने कहा कि किसान कड़ी मेहनत करता है और फसलों का समर्थन लिए बिना ही नष्ट हो जाता है. कई किसान आत्महत्याएं कर रहे हैं. इन्हें रोके बगैर दुष्प्रचार किया जा रहा है. हर बुद्धिजीवी जगत को इस बुराई की निंदा करते हुए आगे बढ़ना चाहिए.