विज्ञापन
Story ProgressBack

'NDTV इलेक्शन कार्निवल' : मथुरा में हेमा मालिनी के सामने 'प्रवासी Vs बृजवासी' की चुनौती, यमुना की गंदगी और बंदर भी मुद्दा

'NDTV इलेक्शन कार्निवल' में शामिल मथुरा के कुछ लोग केंद्र और राज्य सरकार के काम से संतुष्ट नजर आए. वहीं कुछ लोग यमुना में गंदगी, शहर में जाम और बंदर के आतंक को लेकर प्रशासन से नाराज दिखे.

Read Time: 3 mins
मथुरा (उत्तर प्रदेश):

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2024) को लेकर एनडीटीवी नेटवर्क का खास कार्यक्रम 'NDTV इलेक्शन कार्निवल' (NDTV Election Carnival) दिल्ली, हरिद्वार और मेरठ होते हुए मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मथुरा पहुंचा. मथुरा से बीजेपी ने दो बार की सांसद हेमा मालिनी को एक बार फिर से मैदान में उतारा है. विपक्ष के बृजवासी बनाम प्रवासी के मुद्दे पर बीजेपी ने कहा कि उनके पास कोई स्थानीय मुद्दा नहीं है, इसीलिए वो इस तरह की बात करते हैं.

'NDTV इलेक्शन कार्निवल' में शामिल बीजेपी के नेता ने कहा कि बृज क्षेत्र में आने वाला हर कोई बृजवासी है, इसीलिए ये मुद्दा कोई मायने नहीं रखता. वहीं विपक्षी नेता ने कहा कि हेमा मालिनी चुनाव मथुरा से लड़कर जीतती हैं, लेकिन रहती मुंबई में हैं. जनता ऐसा नेता चाहती है, जिससे वो जब भी चाहे अपनी समस्याओं को लेकर मिल सके. उन्होंने पिछले दस साल में मथुरा में कोई भी काम नहीं किया. क्या बीजेपी के पास कोई स्थानीय नेता नही है?

कांग्रेस का कहना है कि मथुरा में कई स्थानीय मुद्दे हैं, जिस पर कोई काम नहीं हुआ. यमुना की सफाई तो यहां का सबसे बड़ा मुद्दा है. साथ ही शहर में जगह-जगह नो एंट्री और बंदर के आतंक से भी स्थानीय लोग परेशान हैं. यहां जो भी काम हुआ है वो पहले की सरकारों की देन है.

Latest and Breaking News on NDTV
वहीं कार्यक्रम में मौजूद स्थानीय लोगों ने भी वोट देने को लेकर अपने मुद्दे गिनाए. किसी ने कहा कि सांसद हेमा मालिनी ने पिछले दस साल में कोई भी काम नहीं किए, तो किसी ने कहा कि वो राष्ट्रवाद के मुद्दे को देखकर अपने मताधिकार का प्रयोग करता है. कुछ लोग राज्य सरकार और केंद्र सरकार के काम से संतुष्ट नजर आए. वहीं कुछ लोग यमुना में गंदगी, शहर में जाम और बंदर के आतंक को लेकर प्रशासन से नाराज दिखे.

5000 किलोमीटर की दूरी तय करेगा 'NDTV इलेक्शन कार्निवल' 

5000 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए 'NDTV इलेक्शन कार्निवल' 34 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के 34 प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगा. लोकसभा चुनाव से पहले नागरिकों से जुड़ने और जागरूकता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एनडीटीवी नेटवर्क ने ये पहल की है. एनडीटीवी इलेक्शन कार्निवल एक ट्रैवलिंग स्टूडियो है, जो नई दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, झारखंड, बिहार, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के 34 शहरों से होकर गुजरेगा.

एनडीटीवी नेटवर्क ने इस मंच को जनता के साथ जुड़ने को लेकर डिज़ाइन किया है. इससे स्थानीय नेताओं और उनके समुदायों से संबंधित मुद्दों के बारे में समझने में मदद मिलेगी. सभी क्षेत्रों में वहां के राजनेता एनडीटीवी के एंकर के साथ सार्थक चर्चा करेंगे, जो मतदाताओं को चुनावी माहौल में अपने वोट के अधिकार को लेकर बेहतर समझ मुहैया करेगा.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
खालिस्तान विवाद के बीच PM मोदी की ट्रूडो से जी7 शिखर सम्मेलन में पहली बार मुलाकात
'NDTV इलेक्शन कार्निवल' : मथुरा में हेमा मालिनी के सामने 'प्रवासी Vs बृजवासी' की चुनौती, यमुना की गंदगी और बंदर भी मुद्दा
बजट से लेकर नौकरी तक... फाइनेंस कमीशन के चेयरमैन ने बताया निर्मला सीतारमण के सामने होंगी कौन-कौन सी चुनौतियां?
Next Article
बजट से लेकर नौकरी तक... फाइनेंस कमीशन के चेयरमैन ने बताया निर्मला सीतारमण के सामने होंगी कौन-कौन सी चुनौतियां?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;