विज्ञापन
Story ProgressBack

"पहली मंजिल से कूद गया" : गुजरात के गेमिंग जोन में लगी आग से सरवाइवर ने इस तरह बचाई खुदकी जान

Rajkot game zone Fire: शनिवार की शाम को गर्मियों की छुट्टियां होने के कारण और साथ ही वीकेंड के कारण यहां 300 से अधिक लोग मौजूद थे और तभी लगभग 4.30 बजे के करीब यहां आग लग गई. इसकी जानकारी राजकोट के फायर ऑफिसर द्वारा दी गई.

Read Time: 3 mins
Rajkot fire News : सरवाइव ने बताया गेमिंग जोन का मंजर.
नई दिल्ली:

गुजरात के राजकोट में टीआरपी गेम जोन में लगी आग में 32 लोगों की मौत हो गई, जिसमें 9 बच्चे भी शामिल हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मौत के मुंह से बचे लोगों ने बताया कि बॉलिंग समेत कई अन्य खेलों का मजा ले रहे युवाओं से भरे सेंटर में लगी भीषण आग से बचने के लिए उन्हें दरवाजे तोड़ने पड़े और खिड़कियों से छलांग लगानी पड़ी. गुजरात के राजकोट में टीआरपी गेमिंग सेंटर से ले जाने से पहले सफेद कपड़ों में लिपटी शवों की कतरां बिछ गई थीं. 

शनिवार की शाम को गर्मियों की छुट्टियां होने के कारण और साथ ही वीकेंड के कारण यहां 300 से अधिक लोग मौजूद थे और तभी लगभग 4.30 बजे के करीब यहां आग लग गई. इसकी जानकारी राजकोट (Rajkot game zone Fire) के फायर ऑफिसर द्वारा दी गई थी. ऑफिसर इलेश खेर ने बताया, "लोग अंदर ही फंस गए क्योंकि एक अस्थायी संरचना एंट्रेंस के पास गिर गई थी और इस वजह से लोगों के लिए बाहर निकल पाना मुश्किल हो गया था." उन्होंने बताया कि ढांचे में ज्वलनशील पदार्थ होने के कारण आग की लपटें तेजी से फैलीं. 

खिचड़ी से कूद कर बचाई जान

इस हादसे से खुद को बचाने वालों ने दर्दनाक घटना को याद करते हुए पृथ्वीराजसिंह जडेजा ने इंडियनएक्सप्रेस को बताया, "हम बॉलिंग कर रहे थे और तभी स्टाफ के दो सदस्य आए और उन्होंने कहा कि ग्राउंड फ्लोर पर आग लग गई है और हमें निकल जाना चाहिए. जल्द ही फर्स्ट फ्लोर धुंआ-धुंआ हो गया". उन्होंने कहा, "हमने पीछे के दरवाजे से भागने की कोशिश की लेकिन नहीं भाग पाए. इतने में हमें बाहर से रोशनी आते हुए नजर आई. तभी हमने टीन की शिट को पैर मार कर हटाया और हम पांच लोग फर्स्ट फ्लोर से नीचे कूद गए."

जडेजा ने बताया कि उस वक्त फर्स्ट फ्लोर पर लगभग 70 लोग थे, जिसमें बच्चे भी शामिल हैं. अधिकारियों ने बताया कि मामले में 4 लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. इसमें गेम जोन के मालिक युवराज सिंह सोलंकी, उनके पार्टनर प्रकाश जैन, मैनेजर नितिन जैन के साथ एक और शख्स राहुल राठौड़ शामिल हैं.

यह भी पढ़ें : 

राजकोट और फिर दिल्ली, 7 घंटे में  15 बच्चों की मौत से सदमे में देश

"ना ही कोई इमरजेंसी डोर और ना ही आग बुझाने का सामान...", प्रत्यक्षदर्शी ने बताया वो खौफनाक मंजर

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
चीन ने एक साल में बनाए 90 वॉरहेड, भारत से 11 गुना बढ़ गया न्यूक्लियर हथियारों का स्टॉक, समझें कौन सा देश कितना पावरफुल?
"पहली मंजिल से कूद गया" : गुजरात के गेमिंग जोन में लगी आग से सरवाइवर ने इस तरह बचाई खुदकी जान
PM मोदी की सेमीकंडक्टर संबंधी पहल को पूरा करने की दिशा में काम करेंगे: कुमारस्वामी
Next Article
PM मोदी की सेमीकंडक्टर संबंधी पहल को पूरा करने की दिशा में काम करेंगे: कुमारस्वामी
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;