विज्ञापन
Story ProgressBack

J-20: अपने इस 'बाज' पर इतना क्यों इतराता है चीन

चीन और भारत में सीमा विवाद कोई नया नहीं है लेकिन पिछले कुछ सालों में ये तनाव और बढ़ता दिख रहा है. ऐसे में चीन लगातार आक्रामक रुख अपनाते हुए भारत से सटे इलाकों में अपनी सैन्य स्थिति मजबूत कर रहा है. हाल ही में चीन ने भारत से सटे इलाके में अपने सबसे उन्नत फाइटर जेट जे-20 की तैनाती की है.

Read Time: 6 mins
J-20: अपने इस 'बाज' पर इतना क्यों इतराता है चीन
भारत से सटे इलाकों में चीन सैन्य ठिकानों को कर रहा है मजबूत

चीन ने भारत की सीमा के पास अपने पांचवीं पीढ़ी के सबसे उन्नत स्‍टील्‍थ फाइटर जेट जे-20 को तैनात किया है. जे-20 को तैनात करना इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि भारत और चीन के बीच लंबे वक्त से सैन्य टकराव जारी है. हाल ही में जो सैटलाइट तस्‍वीरों सामने आई है उनसे खुलासा हुआ है कि चीन ने अभी दो दिन पहले ही जे-20 फाइटर जेट को तिब्‍बत में शिगात्‍से एयरबेस पर तैनात किया है. चीन का यह एयरबेस सिक्किम के इलाके के बेहद ही पास है. इसलिए इस जगह का सामरिक महत्व भी अलग ही है.

Latest and Breaking News on NDTV

सिक्किम से 150 KM दूर तैनात किए जेट

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी-एयर फोर्स (PLAAF) ने शिगात्से एयरबेस पर छह J-20 लड़ाकू जेट को तैनात किया है, जो LAC से बमुश्किल 155 किमी की दूरी पर है और सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राई-जंक्शन के पास डोकलाम के भी करीब है, इसके अलावा कई J-10 जेट और एक KJ-500 AEW&C (एयरबोर्न अर्ली-वार्निंग एंड कंट्रोल) विमान पहले से ही वहां मौजूद हैं. जहां से कुछ ही दूरी पर पश्चिम बंगाल में भारत ने राफेल फाइटर जेट को तैनात कर रखा है.

Latest and Breaking News on NDTV

 

चीन ने छह J-20 लड़ाकू जेट को जिस जगह पर तैनात किया है, वो LAC से बमुश्किल 155 किमी की दूरी पर है और सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राई-जंक्शन के पास डोकलाम के भी करीब है.

चीन को जवाब में भारत के पास राफेल

चीन के J-20 स्टील्थ फाइटर जेट के मुकाबले भारत के पास फ्रांस में बने उन्नत फाइटज जेट्स राफेल फाइटर का बेड़ा है. इनमें से 8 मौजूदा समय में अमेरिका के एयरफोर्स (USAF) के साथ हाइटेक कॉम्बेट प्रैक्टिस के लिए अलास्का के लिए उड़ान भर चुके हैं. बता दें कि शिगात्से में जहां चीनी J-20 को देखा गया है, वो लोकेशन पश्चिम बंगाल में हासीमारा से 290 किमी से भी कम दूरी पर स्थित है. फ्रांस से खरीदे गए राफेल फाइटर जेट को 4.5 पीढ़ी का लड़ाकू विमान माना जाता है.

Latest and Breaking News on NDTV

सैटेलाइट इमेज से हुआ खुलासा

ऑल सोर्स एनालिसिस ने "एक्स" पर एक पोस्ट में कहा, "सैटेलाइट तस्वीरों से पता चलता है कि ये विमान (जे-20) 27 मई को एयर बेस पर पहुंचे थे, इससे पहले ग्राउंड क्रू और सहायक उपकरणों की संभावित तैनाती के लिए वाई-20 व्हीकल भी पहुंचा था." वहीं भारत के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ट्विन-इंजन J-20 लड़ाकू विमान "संभवतः उच्च ऊंचाई वाले परीक्षणों के लिए शिगात्से में हैं." PLAAF पश्चिमी क्षेत्र में में नियमित रूप से J-20 तैनात कर रहा है, जो कि LAC से ज्यादा दूर नहीं है.

PLAAF पश्चिमी क्षेत्र में में नियमित रूप से J-20 तैनात कर रहा है, जो LAC से ज्यादा दूर नहीं है.

चीन तेजी से कर रहा है सैन्य ठिकानों का निर्माण

अक्सर सेटेलाइट इमेज से मालूम होता रहता है कि चीन भारत से सटे अपने इलाकों में बुनियादी ढांचे का निर्माण तेजी से कर रहा है. इसकी के साथ अपने सैन्य ठिकानों को और मजबूत कर रहा है. चीन लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश तक फैली 3000 किमी. से ज्यादा लंबी LAC के तीनों सेक्टरों में अतिरिक्त विमान तैनात कर रहा है. चीन ने इन हवाई अड्डों पर नए बेस, ईंधन और गोला-बारूद भंडारण सुविधाओं का निर्माण करने के साथ-साथ नए रनवे का निर्माण किया है और साथ ही पुराने रनवे का विस्तार भी किया है.

चीन ने हवाई अड्डों पर नए बेस, ईंधन और गोला-बारूद भंडारण सुविधाओं का निर्माण करने के साथ-साथ नए रनवे का निर्माण भी किया है और साथ ही पुराने रनवे का विस्तार भी किया है.

उदाहरण के लिए, होटन में, पीएलएएएफ ने हाल ही में दो नए जेएच-7ए लड़ाकू-बमवर्षक और तीन वाई-20 भारी-भरकम विमान तैनात किए हैं,  वहां पहले से ही लगभग 50 जे-11 और जे-7 लड़ाकू विमानों, पांच वाई-8 और वाई-7 और केजे-500 एईडब्लू&सी विमानों की तैनाती की जा चुकी है.

Latest and Breaking News on NDTV

राफेल बनाम जे-20

राफेल भारतीय वायुसेना का सबसे उन्नत विमान है, इसलिए इसकी तुलना चीन के सबसे उन्नत लड़ाकू विमान J-20 से की जाती है. डसॉल्ट राफेल एक फ्रांसीसी ट्विन-इंजन, कैनार्ड डेल्टा विंग, मल्टी-रोल लड़ाकू विमान है और इसे 4.5 पीढ़ी की श्रेणी में गिना जाता है. वहीं चीन का चेंगदू एयरोस्पेस कॉरपोरेशन द्वारा विकसित एक सिंगल-सीट, ट्विन-जेट, ऑल-वेदर, स्टील्थ, 5वीं पीढ़ी का लड़ाकू विमान है. द क्विंट की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने जे-20 में इस्तेमाल किए गए रडार के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है.

चीन का जे-20 पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट है, वहीं भारत के पास जो सबसे उन्नत फाइटर जेट राफेल है. जो कि 4.5वीं पीढ़ी का है.

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह लड़ाकू विमान एक्टिव इलेक्ट्रॉनिकली स्कैन्ड ऐरे (AESA) का इस्तेमाल करता है. राफेल में भी यही रडार सिस्टम इस्तेमाल किया जाता है. AESA को दुनिया की सबसे उन्नत रडार तकनीकों में से एक माना जाता है. हालांकि इसका मतलब यह है कि उनकी क्षमताएं भी समान हैं. क्योंकि रडार सिस्टम को अलग-अलग एवियोनिक्स और तकनीकों का उपयोग करके कैसे अनुकूलित किया जाता है, इससे बहुत फ़र्क पड़ता है.

चीनी दावा करता है कि जे-20 स्टील्थ क्षमता से लैस है. लेकिन राफेल में स्टेल्थ तकनीक नहीं है. जे-20 की क्षमताएं फिलहाल केवल कागजों तक ही सीमित दिखती है क्योंकि इस चीनी लड़ाकू विमान ने अभी तक कोई युद्ध नहीं देखा है. लेकिन दूसरी ओर, राफेल को अफगानिस्तान, लीबिया, माली, इराक और सीरिया में तैनात किया गया है, जहां इसका प्रदर्शन शानदार रहा है. हालांकि कौन सा फाइटर जेट ज्यादा बेहतर है, इसमें पायलट, ट्रेनिंग, युद्ध तकनीक समेत अलग कारण की भी मुख्य भूमिका होती है.

राफेल को अफगानिस्तान, लीबिया, माली, इराक और सीरिया में तैनात किया गया है, जहां इसका प्रदर्शन शानदार रहा है. वहीं चीन के जे-20 ने अभी तक कोई युद्ध नहीं देखा है.

जे-20 की ताकत पर एक्‍सपर्ट की राय क्यों अलग

जे-20 और राफेल में कौन बेहतर है, इसको लेकर एक्सपर्ट की राय भी अलग-अलग है. इस वजह से इसके और ज्‍यादा विश्‍लेषण की बात कही जा रही है. जे-20 को स्‍टील्‍थ फाइटर जेट कहा जा रहा है जो रेडार की पकड़ में नहीं आता है. इसके बाद भी इसकी स्‍टील्‍थ होने को लेकर कई आशंका जताई जा रही है. एक्सपर्ट का कहना है कि इसका विशाल आकार और इंजन नोजल आदि इसको पूरी तरह से स्‍टील्‍थ होने से रोकते हैं. 

जे-20 के स्टील्थ लैस होने को लेकर कई तरह की आशंका जताई जा चुकी है. एक्सपर्ट का कहना है कि इसका विशाल आकार और इंजन नोजल आदि इसको पूरी तरह से स्‍टील्‍थ होने से रोकते हैं. 

भारतीय वायुसेना के पास चीन के मुकाबले क्यों बढ़त

भारत के पास सबसे बड़ा लाभ उसके हवाई ठिकानों का है. दरअसल चीनी विमानों को तिब्बत के ठिकानों से उड़ान भरनी होगी, जो कि 4,000 मीटर और उससे अधिक की ऊंचाई पर स्थित हैं. चूंकि वहां की हवा कम घनी है, इसलिए वे पूरा ईंधन और लोडिंग कैपेसिटी के साथ नहीं उड़ सकते. जबकि हमारे लड़ाकू विमान कम ऊंचाई पर स्थित हवाई क्षेत्रों से उड़ान भर सकते हैं और वे चीनी फाइटर जेट की तुलना में हथियारों का पूरा लोड लेकर उड़ान भरने में सक्षम होंगे.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
राजा भैया के पिता हाउस अरेस्‍ट, मुहर्रम पर करने वाले थे विवादित कार्यक्रम का आयोजन
J-20: अपने इस 'बाज' पर इतना क्यों इतराता है चीन
Analysis : PM मोदी का रूस और ऑस्ट्रिया जाना बस संयोग नहीं, कूटनीति का ये 'कोड' समझिए
Next Article
Analysis : PM मोदी का रूस और ऑस्ट्रिया जाना बस संयोग नहीं, कूटनीति का ये 'कोड' समझिए
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;