बिहार में गृह, कार्मिक मंत्रालय फिर नीतीश के पास, तेजस्वी को मिले चार अहम विभाग, तेजप्रताप का हुआ 'डिमोशन'

तेजस्वी यादव के बड़े भाई तेजप्रताप यादव को बिहार का पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग दिया गया है. बिहार की राजनीति पर नज़र रखने वाले लोगों का कहना है कि यह दरअसल तेजप्रताप का डिमोशन है. पिछली सरकार में तेजप्रताप स्वास्थ्य मंत्री थे. इस बार उनके छोटे भाई तेजस्वी यादव स्वास्थ्य मंत्री है.

बिहार में गृह, कार्मिक मंत्रालय फिर नीतीश के पास, तेजस्वी को मिले चार अहम विभाग, तेजप्रताप का हुआ 'डिमोशन'

तेजप्रताप यादव को बिहार का नया पर्यावरण मंत्री बनाया गया है.

पटना :

बिहार में आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने कैबिनेट का विस्तार किया. कुल 31 मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई. दोपहर बाद विभागों का बंटवारा हुआ. इसमें सबसे चौंकाने वाला विभाग तेजप्रताप यादव का था जो उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के बड़े भाई हैं. तेजप्रताप को पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग मिला है जो उतना महत्वपूर्ण नहीं माना जाता है. सूत्र बताते हैं कि यह एक तरह से उनका डिमोशन है क्योंकि पिछली सरकार में उनके पास स्वास्थ्य विभाग था जो काफी अहम विबाग समझा जाता है. स्वास्थ्य विभाग इतना ही महत्वपूर्ण है कि इस बार यह विभाग तेजस्वी यादव ने खुद अपने पास संभाल रखा है. सूत्र बताते हैं कि शायद अब स्वास्थ्य विभाग को लेकर तेजस्वी अपनी नाराजगी नहीं दिखा पाएंगे.    

बहरहाल, सीएम नीतीश कुमार के पास पांच विभाग हैं जिनमें गृह, सामान्य प्रशासन , मंत्रिमंडल सचिवालय, निगरानी और निर्वाचन प्रमुख हैं. इसके अलावे वो विभाग भी सीएम के पास होंगे जिनका अभी बंटवारा नहीं हुआ है. राज्य के सभी आईएएस और आईपीएस अधिकारियों के ट्रांसफर और पोस्टिंग की जिम्मेदारी सीएम नीतीश कुमार पर होगी.

वहीं उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के पास स्वास्थ्य, पथ निर्माण, नगर विकास और ग्रामीण कार्य का जिम्मा मिला है. तेजस्वी को मिले ये चार विभाग काफी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं.

गौरतलब है कि आज मंत्री बनने वाले विधायकों में RJD के 16, JDU से 11, कांग्रेस से 2, हम से एक और एक निर्दलीय शामिल है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कैबिनेट में OBC और EBCs के 17, उच्च जाति के 6 , SC के 5 और मुस्लिम सुमदाय से 5 सदस्य मंत्री बनाए गए हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये भी एक हकीकत है कि बिहार कैबिनेट में शामिल हरेक दलों ने अपनी पार्टी के अंदर जातीय संतुलन बनाए रखने की कोशिश की है. राष्ट्रीय जनता दल ने 7 यादवों को मंत्री बनाया है. इसके अलावे राजद कोटे से मुस्लिम -3 ( 1- EBC, 1- OBC, 1 others) , अतिपिछड़ा- 2, अनुसूचित जाति- 2, कुशवाहा - 1, भूमिहार- 1, राजपूत- 1 औऱ वैश्य-1 हैं. जदयु (JDU) की तरफ से कुर्मी- 2, यादव - 1, मुस्लिम - 1, अतिपिछड़ा- 2, अनुसूचित जाति- 2, कुशवाहा - 1, भूमिहार- 1, ब्राह्मण- 1, राजपूत- 1 मंत्री बनाए गए हैं. वहीं कांग्रेस ने एक मुस्लिम और एक अनुसूचित जाति को मंत्री बनाया है. HAM की तरफ से एक अनुसूचित जाति को मंत्री बनाया गया है जबकि एक निर्दलीय जो कि राजपूत हैं उनको भी मंत्री बनाया गया है.