यह ख़बर 07 जुलाई, 2014 को प्रकाशित हुई थी

महंगाई पर चर्चा को सरकार तैयार, विपक्ष कर रहा वोटिंग की मांग, लोकसभा मंगलवार तक स्थगित

लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली:

महंगाई काबू करने और बढ़े रेल किराये को वापस लेने की विपक्ष की मांग पर नरेन्द्र मोदी सरकार के संसद के पहले बजट सत्र के पहले ही दिन सोमवार को लोकसभा में भारी हंगामा हुआ जिसके कारण सदन की बैठक करीब 40 मिनट के लिए दोपहर 12 बजे तक स्थगित कर दी गई।

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस, वाम दल, राजद, सपा, राकांपा सहित लगभग समूचे विपक्ष के सदस्य प्रश्नकाल स्थगित कर महंगाई के मुद्दे पर चर्चा की मांग करने लगे।

इस बीच लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदस्यों से प्रश्नकाल चलने देने का आग्रह किया और कहा, 'यह बजट सत्र का पहला दिन है। मेरी आपसे अपील है कि प्रश्नकाल चलने दें। मैंने आपके सभी नोटिस को देखा है। हर एक बात पर चर्चा कराने की पूरी कोशिश करेंगे। लेकिन प्रश्नकाल बाधित नहीं करें, प्रश्नकाल बाधित नहीं हो।'

इससे पूर्व कर्नाटक के चिक्कोडी से लोकसभा के लिए चुनकर आए प्रकाश बबन्ना हुक्केरी ने सदन की सदस्यता की शपथ ली। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रिपरिषद के सदस्य पीयूष गोयल का सदन से परिचय कराया जिनका पहले सत्र में परिचय नहीं हो पाया था।

इसके तुरंत बाद विपक्षी सदस्य आसन के समीप आ गए और महंगाई तथा रेल भाड़े के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ नारे लगाने लगे। राजद के पप्पू यादव ने बिहार के मुजफ्फरपुर में जापानी इंसेफेलाइटिस से बच्चों की मौत के विषय पर चर्चा की मांग की।

इस बीच कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी अपसे स्थान आगे आकर उन सदस्यों के पास खड़े हो गए जो महंगाई के खिलाफ नारे लगा रहे थे।

विपक्षी सदस्यों के भारी हंगामे के बावजूद अध्यक्ष ने प्रश्नकाल जारी रखा और शोर शराबे के बीच ही कुछ विषयों पर सदस्यों के प्रश्नों का मंत्रियों ने जवाब भी दिया। हंगामा थमता नहीं देख अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने लगभग 11 बजकर 20 मिनट पर सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक स्थगित कर दी।

दोपहर 12 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने पर विपक्ष ने हंगामा जारी रखा। अध्यक्ष ने इस बीच उनसे कहा कि देश ने कुछ सफलताएं अर्जित की हैं, उन पर बधाई दे लेने दीजिए। सदस्यों के शांत होने पर उन्होंने पीएसएलवी सी-23 के सफल प्रक्षेपण और बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल, बिलियर्ड और स्नूकर खिलाड़ी पंकज आडवाणी तथा एयर पिस्टल शूटर जीतू राय की हाल की बड़ी सफलता पर बधाई दी।

आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाये जाने के तुरंत बाद कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत महंगाई पर चर्चा कराने की मांग की।

इस पर संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि सरकार महंगाई पर चर्चा कराने के लिए पूरी तरह तैयार है। हम नियम 193 के तहत विस्तार से चर्चा कराने के लिए तैयार हैं और सारा देश जानता है कि महंगाई के लिए कौन जिम्मेदार है।

सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकाजरुन खड़गे ने कहा कि उनकी पार्टी कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत महंगाई पर चर्चा कराना चाहती है।

अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि उन्हें महंगाई पर चर्चा कराने के लिए कई दलों के नेताओं की ओर से कार्यस्थगन प्रस्ताव मिले हैं लेकिन वह कार्यस्थगन के तहत इस पर चर्चा कराने की अनुमति नहीं दे रहीं हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार नियम 193 के तहत महंगाई पर चर्चा कराने को तैयार है। अत: सरकार और विपक्ष दोनों मिलकर तय कर लें कि इस मुद्दे पर चर्चा कैसे शुरू की जाए। उन्होंने कहा कि उनकी तरफ से महंगाई पर चर्चा के लिए मना नहीं है लेकिन यह कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत नहीं होगी, बल्कि 193 के तहत होगी।

कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि जब राज्यसभा में प्रश्नकाल स्थगित करके महंगाई पर चर्चा शुरू हो सकती है तो लोकसभा में क्यों नहीं।

महंगाई पर 193 के तहत चर्चा कराने के सरकार के प्रस्ताव के खिलाफ विपक्ष के सदस्य अपने स्थानों पर खड़े होकर कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत चर्चा कराने की मांग उठाने लगे। हंगामा थमता नहीं देख अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही लगभग 10 मिनट बाद ही अपराहन 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

दोपहर 2 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने पर पहले जैसा नजारा रहा। विपक्ष कार्यस्थगत प्रस्ताव के तहत चर्चा की मांग पर अड़ा रहा जबकि सरकार ने कहा कि वह नियम 193 के तहत चर्चा को तैयार है। अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि वह पहले ही कार्यस्थगन प्रस्ताव के नोटिसों को अस्वीकार कर चुकी हैं और नियम 193 के तहत महंगाई पर चर्चा कराने के उन्हें कई नोटिस मिले है जिसके तहत वह तत्काल चर्चा शुरू कराने को तैयार हैं।

कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने नियम 56 के तहत कार्यस्थगन का नोटिस दिया है और वह इसी के तहत चर्चा कराना चाहेंगे। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि जब वह कार्यस्थगन प्रस्तावों को अस्वीकार करने का अपना निर्णय पहले ही दे चुकी हैं तो इसके तहत चर्चा का सवाल ही कहां उठता है।

उन्होंने कहा, 'मैंने कार्यस्थगन प्रस्तावों के नोटिसों के बारे में अपनी व्यवस्था दे दी है। आप महंगाई पर चर्चा चाहते हैं। गरीबी की बात करना चाहते हैं। मैं इससे सहमत हूं और आप विषय पर 193 के तहत अभी चर्चा शुरू कर सकते हैं, लेकिन अब कार्यस्थगन प्रस्ताव का सवाल ही पैदा नहीं होता है।'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि जब राज्यसभा में इस विषय पर कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत चर्चा हो सकती है तो लोकसभा में क्यों नहीं? इस पर अध्यक्ष ने उन्हें बीच में ही टोकते हुए कहा कि दूसरे सदन में क्या चल रहा है, यह बात इस सदन में नहीं उठ सकती है।

संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि विपक्ष महंगाई पर चर्चा कराना चाहता है और सरकार उसके लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि कार्यस्थगन प्रस्ताव के नोटिसों के बारे में आसन की ओर से पहले ही व्यवस्था आ चुकी है। ऐसे में कुछ अन्य सदस्यों ने 193 के तहत महंगाई पर चर्चा कराने के लिए नोटिस दिये हैं और अगर अध्यक्ष अनुमति देती हैं तो सरकार इस नियम के तहत तुरंत चर्चा के लिए तैयार है।

इस बीच कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के सदस्य आसन के सामने आकर कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत चर्चा की मांग करने लगे। अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें नियम 193 के तहत महंगाई पर चर्चा शुरू कराने के छह नोटिस मिले हैं। उन्होंने बताया कि चूंकि माकपा केपी करणाकरण का नोटिस उन्हें सबसे पहले मिला है। इसलिए वह चर्चा की शुरुआत करेंगे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


चर्चा करने के लिए उन्होंने करुणाकरण का नाम भी पुकारा, लेकिन सदन में व्यवस्था नहीं बनने पर अध्यक्ष ने लोकसभा की कार्यवाही पुन: शुरू होने के 10 मिनट बाद ही कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।