तेलंगाना में BRS के दो कार्यकाल हो गए, अब लोग परिवर्तन चाहते हैं : पी चिदंबरम

चिदंबरम ने तेलंगाना के लोगों से कांग्रेस का समर्थन करने का आग्रह किया ताकि वह कर्नाटक में पांच गारंटी की तर्ज पर अपनी छह चुनावी गारंटी लागू कर सके

तेलंगाना में BRS के दो कार्यकाल हो गए, अब लोग परिवर्तन चाहते हैं : पी चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (फाइल फोटो).

खास बातें

  • चिदंबरम ने कहा- तेलंगाना कांग्रेस के नेताओं ने अपना होमवर्क किया है
  • हम छह गारंटी लागू करने में उनकी मदद करेंगे
  • हम धर्म या जाति के आधार पर किसी से अपील नहीं करते
हैदराबाद:

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने गुरुवार को कहा कि तेलंगाना के लोग भारत राष्ट्र समिति (BRS) सरकार के दो कार्यकाल के बाद आगामी विधानसभा चुनाव में बदलाव के लिए तैयार हैं. चिदंबरम ने मतदाताओं से राज्य में छह चुनावी गारंटी को लागू करने के लिए कांग्रेस का समर्थन करने की अपील की. 

चिदंबरम ने यहां मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘हमारे लोग मुझे बताते हैं कि वे तेलंगाना में इस बार चुनाव में जीत को लेकर बहुत आश्वस्त हैं. बीआरएस ने राज्य में दो कार्यकाल तक शासन किया है. लोगों में बदलाव की इच्छा है. मेरे विचार से यह करना सही है. एक बदलाव समस्याओं के प्रति एक नया दृष्टिकोण लाएगा. मुझे लगता है कि तेलंगाना के लोग बदलाव के लिए तैयार हैं.''

उन्होंने तेलंगाना के लोगों से कांग्रेस का समर्थन करने का आग्रह किया ताकि वह कर्नाटक में पांच गारंटी की तर्ज पर अपनी छह चुनावी गारंटी लागू कर सके.

चिदंबरम ने कहा, ‘‘मुझे यकीन है कि तेलंगाना कांग्रेस के नेताओं ने अपना होमवर्क किया है और सरकार बनने के बाद हम उन्हें खर्चों को पूरा करने के लिए राजस्व उत्पन्न करने में भी मदद करेंगे. यह किया जा सकता है और हम उन्हें छह गारंटी लागू करने में मदद करेंगे.''

छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कांग्रेस बहुत अच्छी स्थिति में

तीन हिंदी भाषी राज्यों में चुनावों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, 'छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में हम बहुत अच्छी स्थिति में हैं. राजस्थान में प्रचार अभियान में तेजी आई है और मुझे लगता है कि यह राजस्थान में भी कांग्रेस के पक्ष में जा सकता है.''

उन्होंने बीआरएस सरकार पर महंगाई नियंत्रित करने और नौकरियां उत्पन्न करने में पूरी तरह से 'विफल' होने का आरोप लगाया.

एक चुनावी रैली के दौरान राहुल गांधी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ''मूर्खों के सरदार'' वाले तंज पर प्रतिक्रिया जताते हुए, चिदंबरम ने कहा, ‘‘मोदी भारत के सम्माननीय प्रधानमंत्री हैं. मैं उनके खिलाफ ऐसे शब्द नहीं बोलूंगा. और मुझे पूरी उम्मीद है कि वह किसी अन्य नेता के खिलाफ ऐसे शब्द का इस्तेमाल नहीं करेंगे.''

बीआरएस अध्यक्ष के चंद्रशेखर राव के इस आरोप पर कि कांग्रेस ने मुसलमानों को केवल वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया, पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम ने कहा कि हर पार्टी लोगों से वोट देने की अपील करती है. उन्होंने कहा, ‘‘हम धर्म या जाति के आधार पर किसी से अपील नहीं करते.''

कांग्रेस प्रतिभा से भरपूर लोकतांत्रिक पार्टी

बीआरएस नेताओं के इस आरोप पर कि कांग्रेस में कई नेता मुख्यमंत्री बनने की इच्छा रखते हैं, चिदंबरम ने कहा कि यदि कांग्रेस में 12 लोग हैं जो मुख्यमंत्री बनने में सक्षम हैं तो इससे पता चलता है कि यह प्रतिभा से भरपूर लोकतांत्रिक पार्टी है. उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप एक व्यक्ति वाली पार्टी हैं और किसी अन्य को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित नहीं करने देते हैं तो आप बीआरएस की तरह होंगे.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसे प्रशंसा के तौर पर लेता हूं कि कांग्रेस पार्टी के पास 12 सक्षम नेता हैं.''