अरुणाचल : चीन से सटी सीमा पर बना सामरिक महत्व का पुल बाढ़ में बह गया

बीआरओ की परियोजना अरुणांक के मुख्य अभियंता ब्रिगेडियर अनिरुद्ध एस कंवर ने कहा कि ली से करीब एक किलोमीटर दूर कोलोरियांग-हुरी रोड पर बना पुल शनिवार को अचानक आई बाढ़ में बह गया.

अरुणाचल : चीन से सटी सीमा पर बना सामरिक महत्व का पुल बाढ़ में बह गया

India-China Border : भारत-चीन सीमा के निकट पुल बहा

ईटानगर:

अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के कुरुंग कुमे जिले में दो रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण स्थानों को जोड़ने वाला एक पुल बाढ़ में बह गया. सीमा सड़क संगठन (BRO) के एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि भारत-चीन सीमा के नजदीक कोरोरू गांव के पास ओयोंग नदी पर बना पुल जिला मुख्यालय कोलोरिंग को दामिन से जोड़ता है.
बीआरओ की परियोजना अरुणांक के मुख्य अभियंता ब्रिगेडियर अनिरुद्ध एस कंवर ने कहा कि ली से करीब एक किलोमीटर दूर कोलोरियांग-हुरी रोड पर बना पुल शनिवार को अचानक आई बाढ़ में बह गया.

अरुणांक परियोजना के तहत 756 बीआरटीएफ की 119 सड़क निर्माण कंपनी (आरसीसी) द्वारा इसे बहाल करने के लिए सभी आवश्यक मानवशक्ति और मशीन को प्राथमिकता पर कार्य करने के लिए बुलाया गया है. 119 आरसीसी के कमांडिंग अधिकारी रोशन और प्लाटून कमांडर मेजर मोहित कुमार साइट पर काम कर रहे हैं. कुरुंग कुमे के अतिरिक्त उपायुक्त (एडीसी) ओशन गाओ के मुताबिक, उन्होंने सड़क मार्ग की जल्द बहाली के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है.

उन्होंने कहा कि कोरोरू गांव के पास ओयोंग नदी पर पुल जिला मुख्यालय कोलोरिंग को दामिन से जोड़ता है जो भारत-चीन सीमा पर एक महत्वपूर्ण स्थान है. बीआरओ के प्रोजेक्ट अरुणांक के मुख्य अभियंता ब्रिगेडियर अनिरुद्ध एस कंवर ने कहा कि ली से करीब एक किलोमीटर दूर कोलोरियांग-हुरी रोड पर बना पुल शनिवार को आई बाढ़ में बह गया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा कि टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि पुल के केवल एक पैनल को 100 मीटर नीचे की ओर देखा जा सकता था. उन्होंने कहा, "प्रोजेक्ट अरुणांक के तहत 756 बीआरटीएफ की 119 सड़क निर्माण कंपनी द्वारा इसे बहाल करने के लिए सभी आवश्यक जनशक्ति और मशीनों को प्राथमिकता पर कार्य करने के लिए जुटाया गया है। 119 आरसीसी के अधिकारी, रोशन और प्लाटून कमांडर मेजर मोहित कुमार हैं."