अरविंद केजरीवाल राष्ट्र के नाम संदेश देना बंद करें, जनता को मूर्ख न समझें : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

अनुराग ठाकुर ने कहा कि "भ्रष्टाचारी जितना भी ईमानदारी का चोला पहन ले वो भ्रष्टाचारी ही रहता है. और आम आदमी पार्टी का भ्रष्टाचार कई बार सामने आ चुका है. दिल्ली में शराब के ठेकों में खूब भ्रष्टाचार हुआ है. अगर घोटाला नहीं हुआ था तो इन्होंने शराब नीति को वापस क्यों लिया?"

खास बातें

  • मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई का छापा
  • आबकारी नीति को लेकर विवादों में दिल्ली सरकार
  • केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने टारगेट पर लिया
नई दिल्ली:

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ शुक्रवार को केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने छापे मारे हैं. इसे लेकर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सिसोदिया के साथ-साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी तीखा हमला बोला. उन्होंने कहा कि "शराब के ठेकों के घोटाले से केजरीवाल और सिसोदिया की सच्चाई सामने आ गई है." उन्होंने दिल्ली सीएम को निशाने पर लेते हुए कहा कि "अरविंद केजरीवाल जनता को मूर्ख न समझें. राष्ट्र के नाम संदेश देना बंद करें."

ठाकुर ने कहा कि "भ्रष्टाचारी जितना भी ईमानदारी का चोला पहन ले वो भ्रष्टाचारी ही रहता है. और आम आदमी पार्टी का भ्रष्टाचार कई बार सामने आ चुका है. दिल्ली में शराब के ठेकों में खूब भ्रष्टाचार हुआ है. अगर घोटाला नहीं हुआ था तो इन्होंने शराब नीति को वापस क्यों लिया?" उन्होंने कहा कि "इनके पहले मंत्री सत्येंद्र जैन जब जेल गए तो इन्होंने उन्हें भी बर्खास्त नहीं किया. कह रहे हैं उनकी याद्दाश्त चली गई है. एक्साइज मंत्री एक्सक्यूज मंत्री बन गए हैं, कहीं उनकी भी याद्दाश्त न चली जाए."

बता दें कि आज सीबीआई की एक टीम मनीष सिसोदिया के घर पहुंची. दिल्ली सरकार की आबकारी पॉलिसी को लेकर सीबीआई आज 21 जगहों पर छापा मार रही है. अधिकारियों के मुताबिक ये छापे एक्साइज विभाग के कई अफसरों और शराब कारोबारियों के यहां हो रहे हैं. रेड में मनीष सिसोदिया के अलावा 3 पब्लिक सर्वेट सहित कुछ अन्य लोग भी हैं.

मनीष सिसोदिया ने छापों की जानकारी देते हुए ट्वीट में कहा कि "ये लोग दिल्ली की शिक्षा और स्वास्थ्य के शानदार काम से परेशान हैं. इसीलिए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और शिक्षा मंत्री को पकड़ा है ताकि शिक्षा स्वास्थ्य के अच्छे काम रोके जा सकें. हम दोनों के ऊपर झूठे आरोप हैं. कोर्ट में सच सामने आ जाएगा."

यह भी पढ़ें: मनीष सिसोदिया के घर CBI रेड क्यों...? किन सवालों का जवाब तलाश रही CBI...?

क्या है पूरा मामला?

अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने पिछले साल नवंबर में लाई गई दिल्ली आबकारी नीति बनाने और उसके क्रियान्वयन में कथित अनियमितताओं के संबंध में एक एफआईआर दर्ज की है. उन्होंने बताया कि छापेमारी के दौरान सीबीआई के दल 21 स्थानों पर पहुंचे, जिसमें सिसोदिया और एजीएमयूटी काडर के 2012 बैच के आईएएस अधिकारी एवं पूर्व आबकारी आयुक्त कृष्ण सहित चार लोक सेवकों के परिसर शामिल हैं.

दिल्ली के उपराज्यपाल वी. के. सक्सेना ने आबकारी नीति 2021-22 के क्रियान्वयन में कथित अनियमितताओं की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की सिफारिश की थी.

उन्होंने बताया कि दिल्ली के मुख्य सचिव की जुलाई में दी गई रिपोर्ट के आधार पर सीबीआई जांच की सिफारिश की गई थी, जिसमें राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम 1991, कार्यकरण नियम (टीओबीआर)-1993, दिल्ली उत्पाद शुल्क अधिनियम-2009 और दिल्ली उत्पाद शुल्क नियम-2010 का प्रथम दृष्टया उल्लंघन पाए जाने की बात कही गई थी. अधिकारियों ने बताया कि इसके अलावा, निविदा के बाद ‘‘शराब कारोबार संबंधी लाइसेंस हासिल करने वालों को अनुचित लाभ'' पहुंचाने के लिए ‘‘जानबूझकर और सकल प्रक्रियात्मक चूक'' की गई.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI की टीम