विज्ञापन
Story ProgressBack

12 साल की लड़की ने खाया 'नाइट्रोजन पान' और पेट के अंदर हो गया छेद

अनन्या ने कहा, "मैं केवल स्मोकी पान ट्राई करना चाहती थी क्योंकि मुझे यह काफी दिलचस्प लगा और बाकी लोग भी इसे खा रहे थे. किसी को कोई दर्द नहीं हुआ लेकिन मुझे जो दर्द हुआ वो बर्दाश्त से बाहर था."

Read Time: 2 mins
12 साल की लड़की ने खाया 'नाइट्रोजन पान' और पेट के अंदर हो गया छेद
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

12 साल की बच्ची के लिए लिक्विड नाइट्रोजन पान खाने का मजेदार अनुभव उस वक्त एक भयानक सपने में बदल गया, जब पान खाने की वजह से उसके पेट में बहुत तेज दर्द होने लगा. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अनन्या (बदला गया नाम) के स्मोकी पान खाने के बाद अचानक ही अप्रैल महीने के अंत में पेट में दर्द होने लगा. इसके बाद जल्द ही उसके परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने बताया कि उसके पेट में छेद हो गया है. 

इस बारे में बात करते हुए अनन्या ने कहा, "मैं केवल स्मोकी पान ट्राई करना चाहती थी क्योंकि मुझे यह काफी दिलचस्प लगा और बाकी लोग भी इसे खा रहे थे. किसी को कोई दर्द नहीं हुआ लेकिन मुझे जो दर्द हुआ वो बर्दाश्त से बाहर था." HSR लेआउट पर स्थित नारायण मल्टीस्पेशेलिटी अस्पताल में डॉक्टरों ने तुरंत ही अनन्या को सर्जरी कराने के के लिए कहा. 

अनन्या को इंट्रा-ऑप ओजीडी स्कोपी और स्लीव गैस्ट्रेक्टोमी के साथ एक एक्सप्लोरेटरी लैपरोटॉमी से गुजरना पड़ा. ऑपरेटिंग सर्जन डॉ. विजय एचएस  ने बताया, "इंट्रा-ऑप ओजीडी स्कोपी एक ऐसी प्रक्रिया है जहां एक एंडोस्कोप, एक कैमरा और रोशनी से सुसज्जित एक लचीली ट्यूब, का उपयोग सर्जरी के दौरान अन्नप्रणाली, पेट की जांच करने के लिए किया जाता है.'' डॉ. विजय एचएस ने ही सर्जिकल टीम का नेतृत्व किया था. 

इसके बाद, पेट का एक हिस्सा, जो कम वक्रता पर लगभग 4x5 सेमी था को हटा दिया गया. अनन्या को सर्जरी के 6 दिन बाद अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी. 

शरीर पर कैसे असर डालता है लिक्विड नाइट्रोजन 

नारायण अस्पताल के मुताबिक, "20 डिग्री सेल्सियस पर 1:694 के तरल-से-गैस विस्तार अनुपात के साथ लिक्विड नाइट्रोजन, महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जोखिम पैदा करता है. किसी बंद स्थान में लिक्विड नाइट्रोजन के तीव्र वाष्पीकरण से काफी जोर पड़ता है. इसकी वजह से त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है और साथ ही रसोई में काम करने वाले या फिर खाद्य संचालकों को भी इससे स्वास्थ्य खतरा हो सकता है. लिक्विड नाइट्रोजन की स्मोक को अंदर लेने से सांस लेने में कठिनाई हो सकती है".

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
हरियाणा : कांग्रेस विधायक 20 जून को राज्यपाल से मुलाकात कर करेंगे फ्लोर टेस्ट की मांग
12 साल की लड़की ने खाया 'नाइट्रोजन पान' और पेट के अंदर हो गया छेद
गम में डूबे परिवार, नहीं जला चूल्‍हा... कुवैत अग्निकांड में बिहार के 2 लोगों की गई है जान
Next Article
गम में डूबे परिवार, नहीं जला चूल्‍हा... कुवैत अग्निकांड में बिहार के 2 लोगों की गई है जान
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;