कोरोना पर जीतः दिल्ली में रहने वाली 96 साल की बुजुर्ग महिला ने दी कोरोना को मात

कोविड-19 महामारी की भयावह लहर के कारण चारों तरफ निराशा और हताशा के माहौल के बीच दिल्ली के शाहदरा में रहने वाली 96 साल की पुष्पा शर्मा ने इस जानलेवा वायरस को मात देकर अपनी जिजीविषा और जीवन के प्रति अपने सकारात्मक नजरिये की अनूठी मिसाल पेश की है.

कोरोना पर जीतः दिल्ली में रहने वाली 96 साल की बुजुर्ग महिला ने दी कोरोना को मात

दिल्ली में 96 वर्ष की बुजुर्ग महिला ने दी कोरोना को मात। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

कोविड-19 महामारी की भयावह लहर के कारण चारों तरफ निराशा और हताशा के माहौल के बीच दिल्ली के शाहदरा में रहने वाली 96 साल की पुष्पा शर्मा ने इस जानलेवा वायरस को मात देकर अपनी जिजीविषा और जीवन के प्रति अपने सकारात्मक नजरिये की अनूठी मिसाल पेश की है. कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बावजूद 96 साल की पुष्पा ने हिम्मत नहीं हारीं और उन्होंने अपने आत्मबल से इसके संक्रमण को हराया और ठीक हो गयीं. पुष्पा की हिम्मत और साहस देखकर उनके पड़ोसी प्रफुल्लित हैं.

'इस साल कोरोना महामारी दुनिया के लिए कहीं ज्यादा घातक साबित होगी', WHO ने चेताया

पुष्पा अपने बेटे अरुण कुमार (67) और बहू मीना (64) के साथ राजधानी के नवीन शाहदरा में रहती हैं. पुष्पा 18 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गयी थीं. वह घर पर ही रहकर अपना इलाज करवा रहीं थीं . पुष्पा के पोते कुणाल (35) ने बताया कि नौ मई को की गयी जांच में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई और अब वह कोरोना से ठीक हो चुकी हैं.

कुणाल ने बताया कि परिवार के कई लोग भी कोरोना संक्रमित थे. पूरे परिवार के लिए पिछले करीब 15 दिन काफी चुनौतीपूर्ण रहे लेकिन चाई जी (पुष्पा) ने अपने जज्बे से इस जानलेवा वायरस को हरा दिया.

भारत में महज 14 दिन में कोरोना से 50 हजार मौतें हुईं, 46 दिनों में एक लाख से ज्यादा मरीजों ने दम तोड़ा


कुणाल ने पीटीआई से कहा, " कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच उस समय दिल्ली के अस्पतालों की हालत बेहद खराब थी और संसाधन भी बहुत सीमित थे. इसलिए हमने उन्हें घर पर ही रखने का फैसला किया और डॉक्टरों की सलाह पर इलाज करवाया."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बिहार के गांवों का दर्दनाक हाल, कैमूर गांव से ग्राउंड रिपोर्ट



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)