यूपी में BJP को झटका : अकेले चुनाव लड़ेगी JDU, नीतीश कुमार कर सकते हैं प्रचार

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022 : बिहार में बीजेपी के सहयोग से गठबंधन की सरकार चला रहे नीतीश कुमार यूपी में अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के लिए कैंपेनिंग भी कर सकते हैं. बीजेपी को झटका देते हुए जेडीयू ने यूपी में अपने उम्मीदवार अलग से उतारने का ऐलान किया है. आज मंगलवार को लखनऊ में इसकी घोषणा भी हो सकती है.

यूपी में BJP को झटका : अकेले चुनाव लड़ेगी JDU, नीतीश कुमार कर सकते हैं प्रचार

नीतीश कुमार की पार्टी JDU यूपी चुनाव में अलग उतारेगी कैंडिडेट्स. (फाइल फोटो)

दिल्ली/लखनऊ:

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों (UP Assembly Elections) के लिए मतदान शुरू होने में कुछ हफ्ते बचे हैं. राजनीतिक पार्टियां अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर रही हैं. ऐसे में कई दिलचस्प समीकरण निकलकर आ रहे हैं. चुनावी बुखार जोरों पर है. महाराष्ट्र की पार्टी शिवसेना भी यहां उम्मीदवार उतारने की बात कर रही है. लेकिन एक चौंकाने वाली खबर जनता दल यूनाइटेड (JDU) को लेकर है. दरअसल, जानकारी मिल रही है कि पड़ोसी राज्य बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू भी यूपी चुनाव में अपने उम्मीदवार उतार रही है. 

बीजेपी नीत एनडीए के सहयोगी और बिहार में बीजेपी के सहयोग से गठबंधन की सरकार चला रहे नीतीश कुमार यूपी में अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के लिए कैंपेनिंग भी कर सकते हैं. 

दरअसल, बीजेपी को झटका देते हुए जेडीयू ने यूपी में अपने उम्मीदवार अलग से उतारने का ऐलान किया है. आज मंगलवार को लखनऊ में इसकी घोषणा भी हो सकती है.

'एक पोस्ट से ट्रिपल अटैक', बिहार BJP अध्यक्ष की नीतीश के 2 बड़े नेताओं को दो टूक: 'टि्वटर-टि्वटर न खेलें'

जेडीयू के पास यूपी में कोई चुनावी जमीन नहीं है. साथ ही यहां ये बात भी याद करना चाहिए कि साल 2019 में कैसे झारखंड विधानसभा चुनावों में पार्टी ने कुछ सीटों पर अपने कैंडिडेट्स उतारे थे, लेकिन नीतीश कुमार ने वहां भी कैंपेनिंग नहीं की थी. और अब जब बीजेपी बिहार में काफी मजबूत हो चुकी है, ऐसे में यूपी में उनका एनडीए से अलग कैंडिडेट्स उतारना दिलचस्प है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


खासकर, तब जब बिहार बीजेपी और जेडीयू के बीच में पिछले दिनों नोंक-झोंक की खबरें आई हैं. दरअसल, बिहार सरकार में गठबंधन के सहयोगी कुछ मुद्दों को लेकर एक दूसरे से उलझे हुए हैं. शराबबंदी, जातिगत जनगणना और सम्राट अशोक के बारे में बीजेपी के एक पूर्व सदस्य की विवादित टिप्पणी को लेकर दोनों पार्टियों के बीच तूत-मैंमैं हुई है. अभी सोमवार को ही बिहार बीजेपी अध्यक्ष डॉक्टर संजय जायसवाल ने कहा था कि 'सहयोगियों के बीच सीधी बातचीत होनी चाहिए. अगर ट्विटर-ट्विटर खेलेंगे तो 76 लाख बीजेपी कार्यकर्ता इसका जवाब देना अच्छे से जानते हैं.'