यूपी सरकार ने किसानों को भेजे गए 'शांति भंग' के नोटिस वापस लिए..

यह नोटिस 19 जनवरी को सीतापुर में ट्रैक्‍टर रखने वाले ज्‍यादातर किसानों को इस आशंका के तहत जारी गए थे कि ये जिले में कानून व्‍यवस्‍था को भंग कर सकते हैं

यूपी सरकार ने किसानों को भेजे गए 'शांति भंग' के नोटिस वापस लिए..

कोर्ट ने अधिकारियों से इस मामले में स्‍पष्‍टीकरण मांगा था कि गरीब किसानों को यह नोटिस जारी क्‍यों किए गए

लखनऊ:

उत्‍तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh government) ने इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) को मंगलवार को बताया कि उसने उन 162 किसानों को 'शांतिभंग' को लेकर जारी नोटिस पर कार्यवाही नहीं करने का फैसला किया है जिनसे इस मामले में स्‍पष्‍टीकरण मांगा गया था कि उनमें से प्रत्‍येक को 10 लाख रुपये का बांड भरने को क्‍यों नहीं कहा जाए. यह नोटिस 19 जनवरी को सीतापुर में ट्रैक्‍टर रखने वाले ज्‍यादातर किसानों को इस आशंका के तहत जारी गए थे कि ये जिले में कानून व्‍यवस्‍था को भंग कर सकते हैं.

किसानों के साथ 11 दौर की बातचीत में कृषि कानूनों में संशोधन के लिए रखे कई प्रस्‍ताव: कृषि मंत्री तोमर

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते कोर्ट ने राज्‍य और जिले के अधिकारियों से यह स्‍पष्‍ट करने को कहा था कि गरीब किसानों को यह नोटिस कैसे और क्‍यों जारी किए गए? किसानों की ओर से पेश वकीलों की ओर से पेश याचिका में कहा गया था कि ये नोटिस आधारहीन हैं और किसी शख्‍स के मूलभूत अधिकारों का उल्‍लंघन करते हैं.आज हाईकोर्ट ने अपने अंतिम आदेश में कहा, 'यूपी सरकार की ओर से पेश हुए एडीशनल एडवोकेट जनरल वीके साही ने जानकारी दी है कि नोटिस 162 किसानों को जारी किए गए थे जिसमें 10 लाख रुपये का बोंड भरने को कहा गया था, इसमें से 43 लोग पेश हुए थे. ताजा रिपोर्ट के आधार पर सभी लोगों के खिलाफ कार्यवाही रोक ली गई है.'

वेंकैया नायडू बोले, 'लोग कहते हैं कृषि कानूनों पर चर्चा नहीं हुई, वे राज्यसभा में कामकाज का रिकॉर्ड देख लें'

dudg36cकिसानों को यह नोटिस 19 जनवरी को जारी किए गए थे

कोर्ट ने इसके साथ ही कहा कि वीके साही ने न्‍यायाधीशों को इस बात का आश्‍वासन दिया है कि वे सीतापुर के डिस्ट्रिक्‍ट मजिस्‍ट्रेट को निर्देशित करेंगे कि भविष्‍य में ऐसी किसी भी कार्यवाही से पहले यह सावधानी बरतें कि इससे किसी को अनावश्‍यक तौर पर 'परेशान' न हो. यही नहीं, डीएम अपने मातहत काम करने वाले को भी यह निर्देश दें.


किसान संगठनों का 6 फरवरी को देशभर में चक्का जाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com