यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह की हालत स्थिर नहीं, सांस लेने में तकलीफ बढ़ी

89 वर्षीय कल्याण सिंह को गत चार जुलाई को संक्रमण और बेहाशी के कारण एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था. इससे पहले उनका इलाज राम मनोहर लोहिया चिकित्सा संस्थान में चल रहा था.

यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह की हालत स्थिर नहीं, सांस लेने में तकलीफ बढ़ी

कल्याण सिंह की हालत खराब है, उनकी सांस लेने में तकलीफ बढ़ गई है

लखनऊ:

संक्रमण की शिकायत के बाद लखनऊ के संजय गांधी परास्नातक आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में भर्ती कराए गए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की हालत स्थिर नहीं है और चिकित्सक लगातार उनके स्वास्थ्य पर नजर बनाए हैं.एसजीपीजीआई की ओर से मंगलवार सुबह साढ़े 10 दस बजे जारी किए गए स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक -कल्याण सिंह की हालत स्थिर नहीं है. शनिवार शाम को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद कल्याण सिंह की ‘ऑक्सीजन थेरेपी' शुरू की गई. सांस लेने में तकलीफ और बढ़ने पर रविवार शाम से उन्हें ''नॉन इनवेसिव वेंटीलेशन'' पर रखा गया है.


बयान के मुताबिक पीसीएम, कार्डियोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, न्यूरोलॉजी और एंडॉक्रिनलॉजी विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक पूर्व मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। एसजीपीजीआई के निदेशक प्रोफेसर आर. के. धीमान भी नियमित रूप से उनके इलाज की निगरानी कर रहे हैं.गौरतलब है कि 89 वर्षीय कल्याण सिंह को गत चार जुलाई को संक्रमण और बेहाशी के कारण एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था. इससे पहले उनका इलाज राम मनोहर लोहिया चिकित्सा संस्थान में चल रहा था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह लखनऊ के अस्पताल में भर्ती हैं. बीजेपी नेता उमा भारती ने कल्याण सिंह का हालचाल लेने न आने पर दुख जताया है. बता दें कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और बिहार के मंत्री शाहनवाज हुसैन भी उनका हालचाल लेने आ चुके हैं. उमा भारती उनका हाल लेने नहीं जा पाई, जिस पर उन्होंने दुख भी व्यक्त किया था. उन्होंने ट्वीट किया था कि मैं कल्याण सिंह के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हूं. मैं लखनऊ में उनसे मिलने नहीं आ पा रही हूं, क्योंकि उत्तराखंड में गंगा किनारे मेरे गुरु जी के स्थान पर गुरु पूर्णिमा तक गंगा जी की अर्चना हो रही है, जिसकी प्रमुख यजमान मैं स्वयं हूं, इसलिए मैं इस स्थान को गुरु पूर्णिमा तक छोड़ नहीं सकती.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)