वेस्ट यूपी की करीब 70 फीसदी सीटें जीतने में सफल रही बीजेपी, सिर्फ तीन जिलों में मिली बड़ी हार, जानें वजह

मेरठ की सात सीटों में से 4 और मुजफ्फरनगर की 6 सीटों में से चार शामिल हैं. बीजेपी को मुरादाबाद की सभी छह सीटों, रामपुर और संभल, दोनों जिलों की चार में से तीन सीटों पर भी हार का सामना करना पड़ा.

नई दिल्ली:

UP Election Results : किसान आंदोलन (Kisan Andolan) देखते हुए यह माना जा रहा था कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी को तगड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा और सत्ता भी उसके हाथ से फिसल सकती है, लेकिन बीजेपी आखिरी वक्त पर हवा का रुख अपने पक्ष में करने में सफल रही. वेस्ट यूपी (West UP Election) में 15 सीटें हारने के बावजूद करीब 70 फीसदी विधानसभा क्षेत्रों में उसने जीत हासिल की. वहीं समाजवादी पार्टी (SP) और आरएलडी (RLD) के यहां बीजेपी का सूपड़ा साफ करने के मंसूबे कामयाब नहीं हुए. बीजेपी (BJP) ने आगरा, मथुरा, गाजियाबाद और गौतम बौद्ध नगर जैसे जिलों में सभी सीटों पर जीत हासिल की, वहीं सपा गठबंधन ने मुरादाबाद, शामली में सभी सीटें जीतीं. बीजेपी जाट बाहुल्य शामली जिले की सभी तीन सीटों पर हार गई, इसमें थाना भवन से एक मौजूदा मंत्री सुरेश राणा की सीट शामिल है. माना जा रहा है कि अमित शाह समेत कई बीजेपी नेताओं का आखिरी वक्त में डोर टू डोर कंपेन, जाट नेताओं के साथ अमित शाह की बैठक और धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण वो अहम वजहें रहीं, जिससे वेस्ट यूपी में बीजेपी फिर कामयाबी हासिल कर सकी. 

मुरादाबाद, रामपुर औऱ संभल में सपा गठबंधन को सफलता

मेरठ की सात सीटों में से 4 और मुजफ्फरनगर की 6 सीटों में से चार शामिल हैं. बीजेपी को मुरादाबाद की सभी छह सीटों, रामपुर और संभल, दोनों जिलों की चार में से तीन सीटों पर भी हार का सामना करना पड़ा. 2017 में वेस्ट यूपी के 24 जिलों की 126 सीटों में से बीजेपी ने 100 (79 फीसदी) सीटें जीती थीं. इस बार उसने 85 सीटें (67 फीसदी) अपनी झोली में डालीं. इस बार सपा और रालोद ने 126 सीटों में से 41 (32 फीसदी) पर जीत हासिल की. जयंत चौधरी की अगुवाई वाली रालोद, जो 2017 के चुनावों में एक सीट पर सिमट गई थी, इस बार 33 सीटों पर लड़ी और उनमें से आठ पर जीत हासिल की. यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में बीजेपी गठबंधन ने उत्तर प्रदेश की 403 में से 322 सीटों पर जीत हासिल की थी. इस बार बीजेपी को अकेले 255 सीटों पर जीत मिली. सपा गठबंधन ने 125 सीटों पर जीत पाई.

शहरी क्षेत्र में फिर आगे निकली बीजेपी

गाजियाबाद में एक और मंत्री अतुल गर्ग ने 1 लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत हासिल की. बीजेपी ने आगरा, मथुरा, अलीगढ़, बुलंदशहर, गाजियाबाद और गौतम बुद्ध नगर जैसे जिलों में सभी सीटें झटक लीं. ऐसे में किसान आंदोलन का प्रभाव बेहद कम ही चुनाव में देखा गया. बीएसपी, कांग्रेस और अन्य दलों को यहां एक भी सीट हासिल नहीं हो सकी. 
यूपी के 24 जिलों में 126 विधानसभा सीटों को आमतौर पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश माना जाता है.

वेस्ट यूपी में ये 24 जिले

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये 24 जिले हैं आगरा, मथुरा, अलीगढ़, मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, बागपत, हापुड़, मुजफ्फरनगर, शामली, गौतम बुद्ध नगर, अमरोहा, बदायूं, बरेली, बिजनौर, मुरादाबाद, रामपुर, सहारनपुर, संभल, शाहजहांपुर, हाथरस, एटा, कासगंज और फिरोजाबाद. इन सीटों पर राज्य में सात दौर के चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान हुआ था.