सीएम ममता ने लगा दी सांसद महुआ मोइत्रा की क्लास, वीडियो क्लिप हो रही वायरल

वायरल वीडियो में महुआ मोइत्रा को सीएम ममता सख्ती से संबोधित करती दिखाई दे रही हैं. खबरों के मुताबिक, बंगाल की मुख्यमंत्री निकाय चुनावों से पहले अंदरूनी कलह से नाराज थीं.

नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्टी की एक बैठक में अपनी ही पार्टी की सांसद महुआ मोइत्रा की क्लास लगा दी. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें महुआ मोइत्रा को सीएम ममता सख्ती से संबोधित करती दिखाई दे रही हैं. खबरों के मुताबिक, बंगाल की मुख्यमंत्री निकाय चुनावों से पहले अंदरूनी कलह से नाराज थीं और उन्होंने नाराजगी जाहिर करने के लिए नदिया जिले के कृष्णानगर में प्रशासनिक समीक्षा बैठक का इस्तेमाल किया.

मुख्यमंत्री के साथ कृष्णानगर से तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा भी मंच पर थीं. ममता बनर्जी ने कहा, "महुआ, मैं यहां एक स्पष्ट संदेश देती हूं. मुझे यह देखने की जरूरत नहीं है कि कौन किसके खिलाफ है. अगर कोई किसी को पसंद नहीं करता है, तो वह यूट्यूब या अखबारों में खबरें दे देता है. इस तरह की राजनीति एक दिन के लिए हो सकती है, लेकिन हमेशा के लिए नहीं. और केवल एक व्यक्ति का हमेशा के लिए एक ही स्थान पर रहना भी उचित नहीं है."

उन्होंने आग कहा, ''जब चुनाव होगा तो पार्टी तय करेगी कि कौन चुनाव लड़ेगा और कौन नहीं.

वीडियो में महुआ मोइत्रा चुपचाप सिर हिलाती दिख रही हैं.

क्लिप को सोशल मीडिया पर बहुत लोगों ने शेयर किया है. महुआ मोइत्रा काफी देर तक ट्विटर पर भी ट्रेंड होती रहीं. जहां कुछ लोगों ने महुआ मोइत्रा पर सार्वजनिक फटकार के लिए चुटकी ली. वहीं कुछ लोगों ने ममता बनर्जी पर उनके सबसे मुखर और मजबूत पार्टी नेताओं में से एक को "अपमानित" करने का आरोप लगाते हुए उनका (महुआ मोइत्रा) समर्थन किया.


इसी वीडियो में ममता बनर्जी ने पार्टी के दूसरे नेता से भी यूट्यूब पर पोस्ट किए गए एक वीडियो पर सवाल किया. ममता ने कहा, "मुझे पता है कि इस खेल के पीछे कौन है. इसे प्लांट किया गया था और मीडिया में लाया गया था. मैंने सीआईडी ​​(आपराधिक जांच विभाग) के माध्यम से इसकी क्रॉस-चेकिंग की है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महुआ मोइत्रा नदिया में पार्टी की प्रभारी थीं, जहां तृणमूल का प्रदर्शन बंगाल के बाकी हिस्सों की तरह शानदार नहीं रहा. जिले की 17 सीटों में से नौ पर बीजेपी ने जीत हासिल की थी. पार्टी नेताओं के अनुसार, नादिया में तृणमूल के कमजोर प्रदर्शन में गुटबाजी एक बड़ा कारक रही है.