टाटा समूह ने ताज महल होटल में कोरोना से लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों को मुफ्त में रहने के लिए दिए कमरे

बता दें कि स्वास्थ्य कर्मियों के साथ पड़ोसियों और मकान मालिकों द्वारा दुर्व्यवहार के मामले सामने आने के बाद टाटा ग्रुप चेयरमैन रतन टाटा ने यह फैसला लिया है.

टाटा समूह ने ताज महल होटल में कोरोना से लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों को मुफ्त में रहने के लिए दिए कमरे

लोगों ने टाटा समूह के इस फैसले की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ की है.

नई दिल्ली:

मुंबई स्थित टाटा ग्रुप फर्म के प्रतिष्ठित ताज महल होटल कोरोनावायरस महामारी से लड़ने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को मुफ्त में रहने के लिए जगह मुहैया करा रहा है. सिर्फ मुंबई में ही नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के नोएडा में भी स्वास्थ्यकर्मियों को कंपनी द्वारा यह सुविधा दी जा रही है. कंपनी द्वारा एक बयान में कहा गया है कि इस कठिन वक्त में हमें हमारी जिम्मेदारी का एहसास है. समाज के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को लेकर हम मेडिकल कर्मियों को कमरे मुहैया करा रहे हैं. बता दें कि मेडिकल कर्मियों को यह कमरे टाटा ग्रुप के 7 होटलों, ताज महल पैलेस, ताज लैंड्स एंड, ताज सैंटाक्रूज, द प्रेसिडेंट, जिंजर एसआईडीसी अंधेरी, जिंजर मडगांव और जिंजर नोएडा में दिए जा रहे हैं.


बता दें कि स्वास्थ्य कर्मियों के साथ पड़ोसियों और मकान मालिकों द्वारा दुर्व्यवहार के मामले सामने आने के बाद टाटा ग्रुप चेयरमैन रतन टाटा ने यह फैसला लिया है. अब इस फैसले की सोशल मीडिया पर भी काफी प्रशंसा की जा रही है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


टाटा समूह ने 500 करोड़ रुपए की राशि कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में योगदान के लिए दी है. यही नहीं 1,000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता भी समूह दे रहा है.