पराली जलाने पर पंजाब व हरियाणा सरकार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग : आतिशी

पंजाब और हरियाणा की सरकारों को सख्त आदेश दिए जाएं कि वह पराली जलाने के इस सिलसिले को रोकें और यदि वह ऐसा करने में नाकाम होते हैं, तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए.

पराली जलाने पर पंजाब व हरियाणा सरकार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग : आतिशी

नई दिल्ली:

Delhi Assembly Environment Committee :  दिल्ली विधानसभा की पर्यावरण समिति ने पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की वजह से दिल्ली में बढ़ने वाले प्रदूषण के मुद्दे पर आज केंद्र सरकार द्वारा गठित एयर क्वालिटी कमीशन (एक्यूसी) से मुलाकात की. पर्यावरण समिति की चेयरपर्सन आतिशी ने कहा कि समिति ने कमीशन से मुलाकात कर पराली जलाने पर पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों की जवाबदेही तय करने और केस दर्ज कर उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. साथ ही, कमीशन से पंजाब और हरियाणा की सरकारों को बाॅयो डीकंपोजर तकनीक से पराली का समाधान करने के लिए आदेश जारी करने का भी अनुरोध किया गया है. 

एयर क्वालिटी कमीशन के साथ मीटिंग के बाद एक बयान जारी करते हुए आम आदमी पार्टी की विधायक एवं दिल्ली विधानसभा पर्यावरण समिति की चेयरपर्सन आतिशी ने कहा कि आज हम यहां इस मीटिंग के लिए इसलिए आए थे, क्योंकि हर वर्ष अक्टूबर और नवंबर के महीने में दिल्ली में सांस लेना मुश्किल हो जाता है. अस्थमा के मरीजों को, बुजुर्गों को, बच्चों को बड़ी तकलीफों का सामना करना पड़ता है.

यह भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे बाजार बंद के मैसेज पर दिल्ली सरकार के मंत्री कहा....

उन्होंने बताया कि एयर क्वालिटी कमीशन से मिलकर हमने दो महत्वपूर्ण मांग उनके समक्ष रखी. पहला, दिल्ली का पूसा इंस्टीट्यूट ने पराली को डीकंपोज करने के लिए जो एक तकनीक इजाद की है, एयर क्वालिटी कमिशन हरियाणा और पंजाब की सरकारों को उसका इस्तेमाल करने के आदेश दें, ताकि हर वर्ष जो हरियाणा और पंजाब के किसानों को मजबूरी वश पराली जलाने पड़ती है, जिससे बहुत ज्यादा प्रदूषण होता है, उसको रोका जा सके. दूसरा, केवल इस तकनीक का इस्तेमाल करने का आदेश देना ही काफी नहीं है.

पंजाब और हरियाणा की सरकारों को सख्त आदेश दिए जाएं कि वह पराली जलाने के इस सिलसिले को रोकें और यदि वह ऐसा करने में नाकाम होते हैं, तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए.

यह भी पढ़ें- दिल्ली सरकार ने बीते 5 दिनों में कोरोना के लिए 411 नए आईसीयू बेड्स तैयार किए

आतिशी ने कहा चूंकि एयर क्वालिटी कमीशन के पास पावर है कि वह किसी भी व्यक्ति को प्रदूषण फैलाने के जुर्म में उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करा सकती है और उसे 5 साल के लिए जेल तक भिजवा सकती है. हमने कमीशन से आग्रह किया है कि पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों से इस संबंध में जवाब मांगा जाए और दोषी पाए जाने पर उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए.

उन्होंने बताया कि एयर क्वालिटी कमीशन ने हमें आश्वासन दिया है कि वह इस संबंध में जल्द से जल्द महत्वपूर्ण कदम उठाएंगे. उन्होंने यह भी बताया कि पूसा इंस्टिट्यूट के साथ भी कमीशन ने एक बैठक का आयोजन रखा है. बैठक के बाद आगे की प्रक्रिया पर कमीशन फैसला लेगा. हम लोग भी इस पूरी प्रक्रिया पर अपनी नजर बनाए हुए हैं. हमें पूरी उम्मीद है कि एयर क्वालिटी कमीशन जल्द से जल्द इस मामले पर कार्यवाही करेगा.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com