चुनावी वादों को लेकर नवजोत सिद्धू ने केजरीवाल पर साधा निशाना

कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने चुनावी वादों को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए सोमवार को कहा, ‘‘जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए.’’

चुनावी वादों को लेकर नवजोत सिद्धू ने केजरीवाल पर साधा निशाना

कांग्रेस नेता ने केजरीवाल से सवाल किया कि उन्होंने दिल्ली में शिक्षकों के लिए कितनी नौकरियां उपलब्ध कराई हैं

चंडीगढ़:

कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने चुनावी वादों को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए सोमवार को कहा, ‘‘जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए.'' सिद्धू ने आम आदमी पार्टी के पंजाब में सत्ता में आने पर 18 वर्ष से अधिक उम्र की प्रत्येक महिला को हर महीने एक हजार रुपये की आर्थिक मदद देने के केजरीवाल के वादे को “लॉलीपॉप'' करार देते हुए आप के राष्ट्रीय संयोजक से सवाल किया कि दिल्ली में कितनी महिलाओं को यह राशि प्रदान की जा रही है. कांग्रेस नेता ने दिल्ली के मुख्यमंत्री से सवाल किया कि उन्होंने दिल्ली में शिक्षकों के लिए कितनी नौकरियां उपलब्ध कराई हैं.

कैप्टन अमरिंदर की 'मामला लटकाओ, दोषी बचाओ' नीति पर चल रहे गृहमंत्री रंधावा और सीएम चन्नी: भगवंत मान

दरअसल, केजरीवाल ने कुछ दिन पहले कहा था कि पंजाब में आप के सत्ता में आने पर अनुबंधित शिक्षकों को नियमित कर दिया जाएगा. सिद्धू ने यह टिप्पणी ऐसे समय की है, जब एक दिन पहले ही केजरीवाल ने कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के नेताओं पर पंजाब में चुनाव के मद्देनजर आप की घोषणाओं के लिए उसे लगातार कोसने का आरोप लगाया है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को एक के बाद एक कई ट्वीट कर दिल्ली के मुख्यमंत्री पर निशाना साधा. सिद्धू ने एक ट्वीट में कहा, “जो लोग खुद शीशे के घरों में रहते हैं, उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए. अरविंद केजरीवाल जी आप महिला सशक्तिकरण, नौकरियों और शिक्षकों की बात करते हैं. हालांकि, आपके मंत्रिमंडल में एक भी महिला मंत्री नहीं है. दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित जी ने दिल्ली को राजस्व के मामले में सरप्लस छोड़ा था, आप दिल्ली में कितनी महिलाओं को प्रति माह एक हजार रुपये देते हैं?''

उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण का मतलब चुनावी प्रक्रिया के हर चरण में महिलाओं को अनिवार्य रूप से शामिल करना है जैसा कि पंजाब में कांग्रेस पार्टी कर रही है. कांग्रेस नेता ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “सच्चा एवं सही नेतृत्व एक हजार रुपए का लॉलीपॉप नहीं देता बल्कि कौशल और स्वरोजगार के क्षेत्र में निवेश कर महिला उद्यमियों को प्रोत्साहित करता है. यही पंजाब मॉडल है.”

पंजाब कांग्रेस का ब्राह्मण सम्मेलन, रामायण-महाभारत पर रिसर्च सेंटर समेत कई तोहफों का ऐलान

शिक्षकों के मुद्दे पर सिद्धू ने केजरीवाल सरकार पर अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति कर रिक्त पदों को भरने का आरोप लगाते हुए कहा, “शिक्षकों और नौकरियों की बात करें तो 2015 में दिल्ली में शिक्षकों के 12,515 पद खाली थे और 2021 में 19,907 पद खाली हैं. आप अधिकतर रिक्त पदों पर अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति कर काम चला रहे हैं.''


सिद्धू ने एक अन्य ट्वीट में केजरीवाल से सवाल करते हुए कहा, “दिल्ली में 2015 के चुनावी घोषणापत्र में आपने आठ लाख नयी नौकरियां और 20 नए कॉलेज का वादा किया था. ये नौकरियां और कॉलेज कहां हैं? पिछले पांच वर्षों में दिल्ली में बेरोज़गारी दर लगभग पांच गुणा बढ़ गई है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नवजोत सिद्धू ने पंजाब सरकार को दी धमकी, बोले- रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की तो भूख हड़ताल करूंगा



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)