सेल ने वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में 3850 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

कंपनी के मजबूत परफ़ार्मेंस पर सेल अध्यक्ष  सोमा मण्डल ने कहा, "कंपनी वैल्यू चेन यानि बाज़ार में मौजूद वैल्यू-एडेड-उत्पादों की आपूर्ति के अवसरों को हासिल करने की दिशा में लगातार आगे बढ़ रही है.

सेल ने वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में 3850 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

देश की सार्वजनिक क्षेत्र की इस्पात उत्पादक महारत्न कंपनी सेल ने आज वित्त वर्ष 2021-22 की अपनी पहली तिमाही (अप्रैल-जून'21) के वित्तीय परिणाम जारी किए हैं, जो कंपनी के एक मजबूत प्रदर्शन को दर्शाते हैं. वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में कंपनी ने  3850 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी 1270 करोड़ रुपए के घाटे में थी. कंपनी का यह शुद्ध मुनाफा पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही से भी अधिक है. वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के दौरान सेल ने 37.70 लाख टन कच्चा इस्पात (क्रूड स्टील) का उत्पादन, 33.27 लाख टन विक्रेय इस्पात  (सेलेबल इस्पात) का विक्रय, रुपया 20,642 करोड़ का प्रचालन (ऑपरेशन) कारोबार किया है. इसके साथ ही कंपनी ने पहली तिमाही के दौरान अपनी सकल उधारी में रुपया 5063 करोड़ कमी की है.

GDP Growth : RBI ने FY22 के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि अनुमान 9.5 प्रतिशत पर बरकरार रखा

कंपनी के मजबूत परफ़ार्मेंस पर सेल अध्यक्ष  सोमा मण्डल ने कहा, "कंपनी वैल्यू चेन यानि बाज़ार में मौजूद वैल्यू-एडेड-उत्पादों की आपूर्ति के अवसरों को हासिल करने की दिशा में लगातार आगे बढ़ रही है. कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रतिकूल प्रभाव के बावजूद, कंपनी द्वारा पहली तिमाही के दौरान हासिल किया गया मजबूत परफ़ार्मेंस लक्ष्य आधारित रणनीति और सेल कार्मिकों की प्रतिबद्धता का प्रमाण है. हालांकि वित्त-वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के दौरान स्टील उत्पादों की मांग उतनी तेज नहीं थी, जैसी वित्त-वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही के दौरान रही, लेकिन प्रचालन से जुड़े कई क्षेत्रों पर ध्यान केन्द्रित करने से इस मजबूत वित्तीय परिणाम को हासिल करने में मदद मिली.


RBI MPC Meet : आरबीआई आज करेगा मौद्रिक नीति पर घोषणा, क्या इस बार भी रेपो रेट में नहीं होगा बदलाव?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस्पात की खपत सायकल और इस्पात क्षेत्र के फ्यूचर ट्रेंड से संकेत मिल रहा है कि मौजूदा साल के बाद के समय के दौरान बुनियादी ढांचे, विनिर्माण, पैकेजिंग, ऑटोमोटिव इत्यादि जैसे क्षेत्रों में जारी रहने वाली लगातार घरेलू खपत से इस्पात की मांग इसी तरह अच्छी रहने की उम्मीद है.