रूस-यूक्रेन युद्ध को लेकर US के साथ तनाव के बीच रूसी स्पेसक्राफ्ट से धरती पर लौटा अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री

अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री वंदे हेई स्पेस में 355 दिन रहे. धरती पर लौटने के बाद नासा ने उनका स्वागत किया है.

रूस-यूक्रेन युद्ध को लेकर US के साथ तनाव के बीच रूसी स्पेसक्राफ्ट से धरती पर लौटा अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री

रूसी स्पेसक्राफ्ट से धरती पर लौटे अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री

नई दिल्ली:

यूक्रेन में रूसी सेना भयंकर तबाही मचा रही है. इसको लेकर अमेरिका और रूस में तनाव की स्थिति बनी हुई है. इस बीच दोनों देशों के पारस्परिक सहयोग की एक दुर्लभ तस्वीर सामने आई है. दोनों देशों के अंतरिक्ष यात्री इंटरनेशनल अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) से रूसी स्पेसक्राफ्ट से पृथ्वी पर वापस लौटे. वे बुधवार को कजाकिस्तान में पैराशूट से उतरे. नासा के अंतरिक्ष यात्री मार्क वंदे हेई (Mark Vande Hei) और रूसी अंतरिक्ष यात्री एंटोन श्काप्लेरोव और प्योत्र डबरोव (Anton Shkaplerov and Pyotr Dubrov) को ले जाने वाले कैप्सूल अंतरिक्ष स्टेशन ISS से लौटे और कई घंटे बाद पैराशूट की सहायता से पृथ्वी पर लैंडिंग की.

बता दें कि अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री वंदे हेई स्पेस में 355 दिन रहे. 2016 में स्कॉट केली ने 340 दिन स्पेस में बिताए थे. नासा एडमिनेस्ट्रशन में काम कर रहे बिल नेल्सन ने एक बयान में कहा कि मार्क के इस मिशन ने न केवल रिकॉर्ड ब्रेक किया है, बल्कि चंद्रमा, मंगल और उससे आगे के खोज को लेकर खोजकर्ताओं के लिए एक मार्ग भी प्रशस्त किया है. नेल्सन ने कहा कि नासा और देश को मार्क के घर में स्वागत करते हुए गर्व हो रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि यूक्रेन-रूस युद्ध में जारी तनाव के बीच वंदे हेई ने वापसी के सभी प्रोसिजर का पालन किया. डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों की एक छोटी नासा टीम तैयार थी. नासा का कहना है कि दोनों देश आईएसएस पर सहयोग करना जारी रख रहे हैं, हालांकि रूस की अंतरिक्ष एजेंसी रोस्कोस्मोस के प्रमुख दिमित्री रोगोज़िन ने यूक्रेन पर आक्रमण के तुरंत बाद गुस्से में कई सारे ट्वीट्स किए थे और कहा था कि रूस इंटरनेशनल अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) को प्रभावित करने की बात कही थी.