राजस्थान रेप केस में बोले CM अशोक गहलोत- 'BJP नेता खुद बारां जाकर हकीकत क्यों नहीं देखते'

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बारां में दो नाबालिग बहनों से कथित दुष्कर्म को लेकर मुख्य विपक्ष दल भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि वे खुद वहां जाकर हकीकत से रूबरू क्यों नहीं होते.

राजस्थान रेप केस में बोले CM अशोक गहलोत- 'BJP नेता खुद बारां जाकर हकीकत क्यों नहीं देखते'

अशोक गहलोत ने बारां केस में बीजेपी नेताओं के हमलों पर दिया बयान. (फाइल फोटो)

जयपुर:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने बारां में दो नाबालिग बहनों से कथित दुष्कर्म को लेकर मुख्य विपक्ष दल भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा और कहा कि वे खुद वहां जाकर हकीकत से रूबरू क्यों नहीं होते. गहलोत ने कहा, 'बीजेपी नेताओं को बारां का दौरा नहीं करने के लिए राहुल और प्रियंका गांधी पर सवाल उठाने के बजाय, खुद वहां जाकर हकीकत जाननी चाहिए.'

बता दें कि राज्य के बारां शहर की दो नाबालिग बहनें 19 सितंबर को घर से गायब हो गई थीं, जिन्हें 22 सितंबर को कोटा से बरामद किया गया. बयान वगैरह दर्ज करने के बाद इन लड़कियों को उनके परिजनों को सौंप दिया गया. पुलिस के अनुसार दोनों लड़कियों ने अपने 164 के बयानों में कहा कि उनसे कोई दुष्कर्म नहीं हुआ है. इन दोनों के मेडिकल चेकअप में भी दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई. मुख्य विपक्ष दल बीजेपी इस घटना को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साध रही और सवाल उठा रही है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी कांग्रेस शासित राजस्थान के बारां क्यों नहीं आते?

गहलोत ने से कहा, 'राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हमारी बात और हमारी रिपोर्ट पर विश्वास करते हैं. यहां विपक्ष के नेता के तौर पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता जैसे अमित शाह और धर्मेंद्र प्रधान राज्य में बारां या किसी भी और जगह खुद क्यों नहीं जाते ताकि वहां की वास्तविकता जान सकें. हम उन्हें अनुमति देंगे और जरूरत पड़ने पर बीजेपी नेताओं को पुलिस सुरक्षा भी उपलब्ध करवाई जाएगी.'

यह भी पढ़ें: हाथरस केस : पीड़िता ने घटना के एक हफ्ते बाद दी थी रेप की जानकारी- UP पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी का दावा

उन्होंने कहा, 'हम इसके लिए तैयार हैं. उन्हें वहां जाकर वास्तविकता जाननी चाहिए. हम न केवल उन्हें अनुमति देंगे, बल्कि जरूरत पड़ी तो पुलिस की सुरक्षा भी उपलब्ध करवाई जाएगी. घटनाएं कहीं भी हो सकती है, लेकिन उस पर कार्रवाई करना एक बात है और लापरवाही दूसरी बात. हाथरस कोई कार्रवाई नहीं किए जाने का एक नमूना है.' मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी दलों को अपनी भूमिका निभानी चाहिए और राहुल गांधी और प्रियंका गांधी मुख्य विपक्ष दल के नेताओं के रूप में उत्तर प्रदेश के हाथरस जा रहे थे.

गहलोत ने कहा कि राजस्थान में विपक्षी बीजेपी के नेता हालिया हिंसा के बाद डूंगरपुर जिले में गए और उन्हें अनुमति दी गई और इसमें कुछ भी गलत नहीं है. गहलोत ने कहा, 'जब छुपाने के लिए कुछ नहीं है तो किसी को क्यों रोका जाएगा. बीजेपी नेता डूंगरपुर गए और हमने उनको जाने और वहां की वास्तविकता देखने की अनुमति दी. लोकतंत्र में यह सामान्य बात है.'

गांधी जयंती पर सचिवालय में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर गहलोत ने संवाददाताओं से कहा, 'हाथरस में जो भी हुआ वह बहुत शर्मनाक है. पीड़िता की मां बिलखती रही और अपने बेटी के अंतिम दर्शन कराने की गुहार करती रही लेकिन पुलिस ने उनको अनुमति नहीं दी और देर रात शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया.'

Video: प्रियंका गांधी ने NDTV से कहा,'हमने ऐसा अन्याय कभी नहीं देखा था'


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)