चुनावी मोड में PM : BJP का मेगा एक्शन प्लान, दो हफ्ते में पीएम मोदी करेंगे पांच चुनावी राज्यों के ताबड़तोड़ दौरे

पीएम मोदी 27 फरवरी को केरल, 28 फरवरी को पश्चिम बंगाल, एक मार्च को तमिलनाडु और दो मार्च को असम का दौरा करेंगे.

चुनावी मोड में PM : BJP का मेगा एक्शन प्लान, दो हफ्ते में पीएम मोदी करेंगे पांच चुनावी राज्यों के ताबड़तोड़ दौरे

पीएम मोदी अगले दो सप्ताह में करेंगे चुनावी राज्यों के दौरे

खास बातें

  • 27 फरवरी को केरल, 28 फरवरी को पश्चिम बंगाल में होंगे पीएम
  • दो सप्ताह में पांच चुनावी राज्यों का दौरा
  • मार्च में हो सकती है चुनाव की तारीखों की घोषणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) अगले दो सप्ताह में पांच चुनावी राज्यों का ताबड़तोड़ दौरा करेंग. कई परियोजनाओं का उद्घाटन और आधारशिला रखेंगे. पीएम मोदी 27 फरवरी को केरल, 28 फरवरी को पश्चिम बंगाल, एक मार्च को तमिलनाडु और दो मार्च को असम का दौरा करेंगे .पीएम 7 मार्च को कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में एक बड़ी जन सभा करेंगे. बीजेपी ने इसे मेगा रैली का नाम दिया है, जिसमें लाखों लोगों को जुटाने का लक्ष्य है. इस दिन पश्चिम बंगाल के लिए निकाली जा रही बीजेपी की पांचों परिवर्तन यात्राओं का समापन होगा. संभावना है कि चुनाव आयोग मार्च के पहले सप्ताह में पांच राज्यों के चुनावों की घोषणा करेगा.

बता दें कि इसी महीने की शुरुआत में भी पीएम मोदी ने बंगाल का दौरा किया था जिसमें उन्होंने ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा था.एम मोदी ने कहा कि बंगाल की राजनीति उसकी इस हालत की सबसे बड़ी वजह है. ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के शासन में कम्युनिज्म (साम्यवाद) का पुनर्जन्म हुआ है.  पीएम मोदी ने कहा, ममता सरकार के पहले साल में ही ये साफ हो गया कि, बंगाल को जो मिला है वो परिवर्तन नहीं, लेफ्ट का पुनर्जन्म है, वो भी ब्याज समेत. लेफ्ट का पुनर्जन्म यानी, भ्रष्टाचार, अपराध और अपराधियों, हिंसा और लोकतंत्र पर हमलों का पुनर्जन्म. इससे बंगाल में गरीबी और बढ़ती चली गई.


पेट्रोल हुआ 100 के पार, तो मध्य प्रदेश के मंत्री बोले - 'हमें PM को बधाई देनी चाहिए कि...'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


प्रधानमंत्री ने ये भी कहा था कि बंगाल पहले से जितना आगे था, अगर बीते दशकों में उसकी वो गति और बढ़ी होती, तो आज बंगाल कहां से कहां पहुंच गया होता.आज यहां जितने भी उद्योग हैं, जितना भी कारोबार है, जितना भी इंफ्रास्ट्रक्चर है, वो बदलाव चाहते हैं, आधुनिकता चाहते हैं. लेकिन आप सोचिए, बीते 10 सालों में यहां की सरकार ने कितनी फैक्ट्रियों का शिलान्यास या उद्घाटन किया? उस बड़े स्टील प्लांट का क्या हुआ जो यहां की अराजक व्यवस्थाओं के कारण शुरु ही नहीं हो सका? मोदी ने कहा कि बंगाल में पहले कांग्रेस ने शासन किया, भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा. फिर लेफ्ट का शासन लंबे समय तक रहा, उन्होंने भ्रष्टाचार, अत्याचार बढ़ाने के साथ विकास पर ही ब्रेक लगा दिया. 2011 में पूरे देश की नजरें बंगाल पर थीं. लेफ्ट की हिंसा और भ्रष्टाचार का जर्जर किला ढहने वाला था. ममता दीदी ने बंगाल से परिवर्तन का वादा किया था और जनता ने भरोसा भी किया, लेकिन बंगाल को ममता की जगह निर्ममता मिली.