अब 200 रेलवे स्टेशनों पर फोन रिचार्ज, बिजली बिल और टैक्स भुगतान तक कर सकेंगे यात्री...

‘‘सीएससी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में यात्रा टिकट (ट्रेन, हवाई, बस), आधार कार्ड, वोटर कार्ड, मोबाइल रिचार्ज, बिजली बिल भुगतान, पैन कार्ड, आयकर, बैंकिंग, बीमा और कई अन्य की बुकिंग शामिल है.''

अब 200 रेलवे स्टेशनों पर फोन रिचार्ज, बिजली बिल और टैक्स भुगतान तक कर सकेंगे यात्री...

रेलवायर ग्रामीण आबादी की मदद के लिए ग्रामीण रेलवे स्टेशनों डिजिटल सेवाओं को पहुंचाएंगे.

नई दिल्‍ली:

देश के 200 रेलवे स्टेशनों (Railway Station) के यात्री जल्द ही रेलटेल द्वारा स्थापित किए जाने वाले कॉमन सर्विस सेंटर  कियोस्क की मदद से अपने मोबाइल रिचार्ज (Mobile Recharge) कर सकेंगे, बिजली बिलों का भुगतान कर सकेंगे, आधार और पैन कार्ड फॉर्म भर सकेंगे और टैक्स का भी भुगतान कर सकेंगे. रेलटेल ने एक बयान में कहा है कि इस योजना को ‘सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड' (CSC-SPV) और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ साझेदारी में शुरू किया गया है. कियोस्क ग्रामीण स्तर के उद्यमियों (वीएलई) द्वारा संचालित किए जाएंगे.

एक शख्स की जान बचाने के लिए ट्रैनमैन ने लगाई इमरजेंसी ब्रेक, इंटरनेट पर वायरल हुआ वीडियो

बयान में कहा गया, ‘‘सीएससी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में यात्रा टिकट (ट्रेन, हवाई, बस), आधार कार्ड, वोटर कार्ड, मोबाइल रिचार्ज, बिजली बिल भुगतान, पैन कार्ड, आयकर, बैंकिंग, बीमा और कई अन्य की बुकिंग शामिल है.'' कियोस्क का नाम ‘रेलवायर साथी कियोस्क' रखा गया है. रेलवायर रेलटेल की खुदरा ब्रॉडबैंड सेवा का ब्रांड नाम है. बयान में कहा गया है कि सबसे पहले, उत्तर प्रदेश के वाराणसी सिटी और प्रयागराज सिटी स्टेशनों पर ‘रेलवायर साथी सीएससी कियोस्क' को परीक्षण आधार पर चालू किया गया है. इसी तरह के कियोस्क लगभग 200 रेलवे स्टेशनों पर ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों में चरणबद्ध तरीके से संचालित किए जाएंगे.

रेल भवन में 'भाप इंजन' के स्थान पर नजर आएगी 'वंदे भारत एक्सप्रेस' की प्रतिकृति, ये है कारण

इनमें से 44 कियोस्क दक्षिण मध्य रेलवे जोन में, 20 पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे में, 13 पूर्व मध्य रेलवे में, 15 पश्चिम रेलवे में, 25 उत्तर रेलवे में, 12 पश्चिम मध्य रेलवे में हैं, 13 पूर्व तट रेलवे में और 56 पूर्वोत्तर रेलवे जोन में होंगे. रेलटेल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) पुनीत चावला ने कहा, ‘‘ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को अक्सर विभिन्न ई-गवर्नेंस सेवाओं का लाभ उठाने या बुनियादी ढांचे,संसाधनों की कमी के साथ-साथ इंटरनेट का उपयोग करने की जानकारी की कमी के कारण डिजिटलीकरण का लाभ उठाने में मुश्किल होती है. ये ‘रेलवायर साथी कियोस्क' ग्रामीण आबादी की मदद के लिए ग्रामीण रेलवे स्टेशनों पर इन आवश्यक डिजिटल सेवाओं को पहुंचाएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मुंबई सेंट्रल में खुला भारतीय रेलवे का पहला पॉड होटल



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)