गहलोत को सीएम पद से हटाने से कम पर तैयार नहीं सचिन पायलट, कहा - अब आर या पार की लड़ाई : सूत्र

Rajasthan News: सचिन पायलट (Sachin Pilot) के करीबी सूत्र ने NDTV को बताया कि उनके बीजेपी (BJP) में जाने की बात अफवाह है और अब 'आर या पार' की लड़ाई है. सचिन पायलट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सीएम पद से हटाने से कम पर तैयार नहीं हैं.

गहलोत को सीएम पद से हटाने से कम पर तैयार नहीं सचिन पायलट, कहा - अब आर या पार की लड़ाई : सूत्र

Rajasthan News: राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot).

नई दिल्ली:

Rajasthan Political Crisis: राजस्थान की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार पर संकट गहरा गया है. उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने खुलकर बगावत कर दी है. सचिन पायलट ने कहा कि अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है. इसके साथ-साथ पायलट ने यह भी कहा कि उनके पास 30 विधायकों का समर्थन है. उधर, सचिन पायलट के करीबी सूत्र ने NDTV को बताया कि उनके बीजेपी (BJP) में जाने की बात अफवाह है और अब 'आर या पार' की लड़ाई है. सचिन पायलट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सीएम पद से हटाने से कम पर तैयार नहीं हैं.

पायलट के करीबी सूत्र ने बताया कि 'पंजाब, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में प्रदेश अध्यक्ष को ही मुख्यमंत्री बनाया गया और जब मेरी बारी आई तो राजस्थान में अपवाद हो गया. मुझसे कहा गया कि 2019 के लोकसभा चुनाव तक इंतजार कीजिए. इस बीच इनलोगों ने न तो कुर्सी छोड़ी और न ही हमें परेशान करना. पायलट के करीबी सूत्र ने बताया कि उनके विधायकों को तंज किया जाता है. उनके मंत्रियों को काम करने नहीं दिया जाता है. इसके अलावा 124(A) का नोटिस भेजा जाता है. इनकी मंशा साफ है कि ये हमारे मूवमेंट पर सर्विलेंस बिछाना चाहते हैं. अब आर या पार की लड़ाई होगी.

राजस्थान के कांग्रेस प्रभारी का दावा, 'सभी विधायक मेरे संपर्क में, सरकार को नहीं कोई खतरा'

उधर, अशोक गहलोत ने रविवार को ही कांग्रेस विधायकों की बैठक बुलाई, क्योंकि उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की नाराज़गी की ख़बरों के बाद उनकी सरकार को लेकर सवाल उठने लगे थे. इस बीच जयपुर में अशोक गहलोत के निवास पर कांग्रेस विधायकों की बैठक में सचिन पायलट समर्थक वो तीन विधायक भी शामिल हुए जो दिल्ली में पायलट के साथ मौजूद थे. इन विधायकों का कहना है कि वो कांग्रेस में ही रहेंगे और गहलोत सरकार बनी रहेगी.  

सचिन पायलट के साथ माने जा रहे तीन विधायकों का U-टर्न, कहा- 'हम कांग्रेस के सच्चे सिपाही' 

बता दें कि सचिन पायलट तब से नाराज़ हैं जब से उन्हें पुलिस की एसओजी यानी स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप का समन मिला है. समन में पायलट को पूछताछ के लिए बुलाया गया है. एसओजी गहलोत सरकार को अस्थिर करने की साज़िश की जांच कर रही है. हालांकि इस मामले में गहलोत से भी पूछताछ होनी है लेकिन जानकार इसे सिर्फ़ दिखावे की पूछताछ बता रहे हैं. सचिन समर्थकों का कहना है कि किसी प्रदेश अध्यक्ष को पूछताछ का ऐसा नोटिस पहली बार थमाया गया है.

उधर, राजस्थान के लिए कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने रविवार को कहा कि राज्य में पार्टी के सभी विधायक उनके संपर्क में हैं और सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. पांडे ने हैरानी भी जताई कि वो कौन विधायक हैं, जो कथित तौर पर उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के पक्ष में खड़े हैं. पायलट, जो राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ सत्ता संघर्ष में लगे हुए हैं, राज्य की इकाई में चिंता का कारण बने हुए हैं. उनसे अभी भी संपर्क नहीं हो सका है. पांडे ने कहा कि उन्होंने पिछले दो दिन से पायलट से बात नहीं की है और उनके लिए एक संदेश छोड़ा है. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस के सभी विधायक मेरे संपर्क में हैं और राजस्थान में सरकार स्थिर है और अपना कार्यकाल पूरा करेगी.'' कांग्रेस महासचिव ने कहा कि पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को राजस्थान के घटनाक्रमों से अवगत कराया गया है.


VIDEO: सचिन पायलट के साथ माने जा रहे तीन विधायकों का U-टर्न

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com