"यह तीसरे मोर्चे की बैठक नहीं" : शरद पवार के घर पर मीटिंग को लेकर दी गई सफाई

यशवंत सिन्हा की राष्ट्र मंच की बैठक में राजनेताओं के अलावा, "विभिन्न क्षेत्रों के नामचीन लोगों" को आमंत्रित किया गया है.

शरद पवार के घर पर राष्ट्र मंच की बैठक से पहले आई सफाई (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

बीजेपी को रोकने के लिए तीसरे मोर्चे के गठन की सुगबुगाहट शुरू हो गई है. राष्ट्र मंच की एक बैठक बुलाई गई है. इस बैठक को वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले विपक्षी अलायंस बनाने की कोशिशों का हिस्‍सा माना जा रहा है. राष्ट्र मंच के बैनर तले आज बुलाई गई बैठक और प्रशांत किशोर तथा पवार के बीच सोमवार को हुई मुलाकात के बाद इस तरह की अटकलों को और बल मिला. हालांकि, शरद पवार (Sharad Pawar) के घर राष्ट्र मंच की बैठक से कुछ पहले सफाई दी गई है कि यह तीसरे मोर्चे की बैठक नहीं है.

इस बैठक से जुड़े लोगों ने स्पष्ट किया है कि इस मीटिंग का 2024 के चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी से लड़ने के लिए तीसरे मोर्चे के गठन के वास्ते लोगों को साथ लाने से कोई लेना-देना नहीं है.  

शरद पवार से जुड़े करीबी सूत्र ने कहा कि 'राष्ट्र मंच' के संयोजक यशवंत सिन्हा ने कुछ समय पहले शरद पवार से बैठक के लिए आग्रह किया था और पवार ने इस पर सहमति जताई थी. बैठक में शामिल होने वाले लोगों को राष्ट्र मंच द्वारा आमंत्रित किया गया है. शरद पवार या एनसीपी ने किसी नेता या पार्टी को बैठक में शामिल होने के लिए नहीं बुलाया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के नेता यशवंत सिन्हा ने सोमवार शाम ट्वीट किया कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता शरद पवार उनके "राष्ट्र मंच" की एक बैठक की मेजबानी करेंगे. सिन्हा ने कहा, "हम कल शाम 4 बजे राष्ट्र मंच की बैठक करेंगे. शरद पवार अपने घर पर बैठक की मेजबानी करने के लिए सहमत हो गए हैं."

राजनेताओं के अलावा, "विभिन्न क्षेत्रों के नामचीन लोगों" को बैठक में आमंत्रित किया गया है. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि सीनियर एडवोकेट केटीएस तुलसी,पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी, पूर्व राजनयिक केसी सिंह, गीतकार जावेद अख्तर, फिल्मकार प्रीतीश नंदी, सीनियर वकील कोलिन गोंसाल्वेस, करण थापर और आशुतोष बैठक में आमंत्रित लोगों में शामिल हैं. 


शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि राष्ट्र मंच, जो यशवंत सिन्हा साहब ने स्थपित किया था उनके साथ पवार साहब की बैठक है. लेकिन ये देश के सभी विरोधी दलों की बैठक है ये मैं नहीं मानता. क्योंकि बैठक में शिवसेना, समाजवादी पार्टी, बीएसपी, चंद्रबाबू नायडू जैसे विपक्षी नहीं हैं. हो सकता है कि विपक्ष को साथ में लाने की ये पहली शुरुआत है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: शरद पवार ने बुलाई विपक्ष की बैठक, कई बुद्धिजीवियों को भी दिया न्योता