"किसी के पास वो शक्ति नहीं...", BJP हेट स्पीच विवाद पर बोले फेसबुक इंडिया प्रमुख

मोहन अपनी पूर्व पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास के विवाद के बारे में बोल रहे थे.

नई दिल्ली:

फेसबुक अपनी नीतियों को गैर-पक्षपातपूर्ण, उद्देश्यपूर्ण तरीके से लागू करता है. कंपनी के इंडिया प्रमुख ने शुक्रवार को NDTV को बताते हुए उन रिपोर्टों को खारिज किया है, जिनमें कहा गया था कि एक शीर्ष अधिकारी ने सत्तारूढ़ भाजपा के एक नेता के खिलाफ कार्रवाई को वीटो कर दिया था, जो अभद्र भाषा के लिए जिम्मेदार था. फेसबुक के उपाध्यक्ष और भारत के प्रबंध निदेशक अजीत मोहन ने एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा, "जब हिंसा के लिए अभद्र भाषा या भाषण को सीमित करने की बात आती है, तो हम बहुत स्पष्ट होते हैं और हम अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को स्पष्ट करते हैं कि हमारे प्लेटफॉर्म पर क्या अनुमति है और क्या नहीं."  उन्होंने कहा कि कंपनी में किसी एक व्यक्ति के पास अनिवार्य रूप से यह कहने की शक्ति नहीं है कि 'आपको हमारी नीति का प्रवर्तन नहीं करना चाहिए'.

सोशल मीडिया को कानून के दायरे में लाया जाए, सुप्रीम कोर्ट में याचिका पर सुनवाई आज

मोहन अपनी पूर्व पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास के विवाद के बारे में बोल रहे थे, जिन्होंने पिछले साल वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के दो महीने बाद कहा था कि सोशल नेटवर्क में अभद्र भाषा देने के आरोपी भाजपा नेता को मुफ्त पास देने में उनकी भूमिका थी. रिपोर्ट आने के कुछ सप्ताह बाद फेसबुक द्वारा नेता को प्रतिबंधित कर दिया गया.


अपने बिजनेस और स्टाफ की सुरक्षा के लिए बजरंग दल के प्रति फेसबुक का नरम रुख : रिपोर्ट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि कोई भी हमारे प्लेटफॉर्म पर अभद्र भाषा चाहता है. मुझे नहीं लगता कि यह हमारे हित में है कि उपयोगकर्ताओं को अभद्र भाषा से अवगत कराया जाए... हमारा वित्तीय प्रोत्साहन हमारे प्लेटफॉर्म पर सही काम करने के पक्ष में बहुत पक्षपाती है."