नए साल के जश्न पर दिल्ली में नाइट कर्फ्यू, जानिए क्या है टाइमिंग

कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों को देखते हुए नए साल के जश्न के मद्देनजर दिल्ली में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew in Delhi) रहेगा.

नए साल के जश्न पर दिल्ली में नाइट कर्फ्यू, जानिए क्या है टाइमिंग

रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. (सांकेतिक तस्वीर)

खास बातें

  • राजधानी दिल्ली में नाइट कर्फ्यू का ऐलान
  • 31 दिसंबर और 1 जनवरी को नाइट कर्फ्यू
  • कोरोना के मामलों के चलते लिया गया फैसला
नई दिल्ली:

नए साल के जश्न के मद्देनजर दिल्ली में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew in Delhi) लगाने का ऐलान किया गया है. 31 दिसंबर और 1 जनवरी को रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. DDMA ने कोरोनावायरस (Coronavirus) को देखते हुए नए साल के जश्न को लेकर होने वाली भीड़ के कारण यह आर्डर जारी किया है. इस दौरान पब्लिक प्लेस पर 5 लोगों से ज्यादा भीड़ इकठ्ठी नहीं हो सकती. नए साल के किसी भी जश्न और सेलिब्रेशन या प्रोग्राम की पब्लिक प्लेस पर इजाजत नहीं होगी. लाइसेंसी प्लेस, पब्लिक प्लेस के दायरे में नही आएंगे.

दिल्ली ही नहीं बल्कि कई राज्यों में नए साल के जश्न पर पाबंदी लगाई गई है. कई राज्य ऐसे भी हैं, जहां कोरोना के मामले कम हैं और वहां पर जिला प्रशासन को यह फैसला लेने का अधिकार दिया गया है. फिलहाल सभी राज्य कोरोना के मद्देनजर सतर्कता बरत रहे हैं और लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह नए साल का जश्न अपने घर पर ही मनाएं.

भारत में बढ़ रहा कोरोना का नया रूप, ब्रिटेन के COVID-19 स्ट्रेन के कुल मामले हुए 20

दिल्ली में कोरोना के मामलों की बात करें तो इसमें लगातार रिकॉर्ड गिरावट देखने को मिल रही है. 26 मई के बाद एक दिन में सबसे कम नए कोरोना केस बीते दिन दर्ज किए गए. 26 मई को दिल्ली में 412 केस सामने आए थे. जबकि पिछले 24 घंटे में 677 केस सामने आए हैं. इससे कुल मरीजों का आंकड़ा 6,24,795 तक पहुंच गया है.

1 जनवरी से बिना RFID टैग वाली कमर्शियल व्हीकल्स को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत नहीं होगी


दिल्ली में कोरोना की संक्रमण दर एक फीसदी (0.8 फीसदी) से कम हो गई है, जो अब तक का सबसे निचला स्तर है. राज्य में COVID-19 के सक्रिय मरीज भी 0.93 फीसदी रह गए हैं और यह भी अब तक सबसे कम स्तर का रिकॉर्ड है. दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मामले 20 मई के बाद सबसे कम रह गए हैं, तब राज्य में कोरोना के 5720 मरीज थे. यानी 7 माह में सबसे कम मरीज उपचाराधीन हैं. दिल्ली में अभी सक्रिय मरीज यानी कोरोना का इलाज करवा रहे मरीजों की संख्या 5838 रह गई हैं, इनमें से भी करीब 50 फीसदी यानी 2788 मरीज होम आइसोलेशन में हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: दिल्ली में तैयार हो गया वैक्सीनेशन सेंटर, जाने से पहले एक बार जरूर देखें