‘नीट-यूजी’ के फिजिक्स के पेपर में ‘गलती’ को लेकर प्रधानमंत्री को लिखा गया पत्र

छात्रों का कहना है कि इस गलती से उन्हें 5 अंकों का नुकसान होगा, जो कड़ी प्रतिस्पर्धा वाली परीक्षा में अहम भूमिका निभाएंगे. उन्होंने दावा किया कि गलत तरीके से तैयार किए गए प्रश्न के कारण हिंदी माध्यम के दो लाख परीक्षार्थियों को नुकसान होगा और इनमें से कई उम्मीदवारों को सरकारी कॉलेज में दाखिला नहीं मिल पाएगा.

‘नीट-यूजी’ के फिजिक्स के पेपर में ‘गलती’ को लेकर प्रधानमंत्री को लिखा गया पत्र

नीट यूजी के भौतिकी के पेपर के एक सवाल में गड़बड़ी का दावा

कोटा :

‘नीट-यूजी' के फिजिक्स के पेपर में ‘गलती' का दावा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा गया है.एक सेवानिवृत्त व्याख्याता (लेक्चरर) ने राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक खुले पत्र में दावा किया है कि राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट)-यूजी 2021 की परीक्षा के दौरान भौतिक विज्ञान के एक प्रश्न का हिंदी में गलत अनुवाद किए जाने से हजारों छात्रों का भविष्य दांव पर लग गया है.फिजिक्स के सेवानिवृत्त लेक्चरर अजीत सिंह बांठिया ने आरोप लगाया कि ‘प्रत्यावर्ती धारा‘ पर गलत तरीके से प्रश्न तैयार करके एनटीए ने हिंदी माध्मय के विद्यार्थियों के साथ अन्याय किया. सवाल के अंग्रेजी संस्करण में ‘एम्प्लीट्यूड ऑफ करंट' शब्दों का इस्तेमाल किया गया था, लेकिन हिंदी संस्करण में केवल ‘धारा' शब्द का इस्तेमाल किया गया था और ‘एम्प्लीट्यूड यानी आयाम' शब्द छोड़ दिया गया.

बांठिया ने कहा कि इसके कारण छात्रों ने 'धारा के वर्ग माध्य मूल मान' को मानक मान मानकर इसे हल किया. कोटा में हिंदी भाषा के उम्मीदवारों ने प्रश्न के हिंदी संस्करण की समीक्षा की मांग करते हुए ‘नीट(यूजी) 2021 हिंदी माध्यम परीक्षार्थी संघर्ष मोर्चा' का गठन किया है. छात्रों का कहना है कि इस गलती से उन्हें 5 अंकों का नुकसान होगा, जो कड़ी प्रतिस्पर्धा वाली परीक्षा में अहम भूमिका निभाएंगे. उन्होंने दावा किया कि गलत तरीके से तैयार किए गए प्रश्न के कारण हिंदी माध्यम के दो लाख परीक्षार्थियों को नुकसान होगा और इनमें से कई उम्मीदवारों को सरकारी कॉलेज में दाखिला नहीं मिल पाएगा.

यह परीक्षा नौ सितंबर को हुई थी. पिछले महीने ‘ऑप्टिकल मार्क रिकग्निशन' प्रपत्र जारी होने के बाद, छात्रों ने एनटीए से इस संबंध में शिकायत की थी और उत्तर कुंजी में सुधार की मांग की थी, लेकिन इस पर गौर नहीं किया गया.
छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की. उन्होंने कहा कि शीर्ष अदालत ने 30 नवंबर को एनटीए के धोखाधड़ी वाले हलफनामे के आधार पर मामले को खारिज कर दिया. कोटा के विभिन्न कोचिंग सेंटर में भौतिकी के कई शिक्षकों ने आरोप लगाया कि एनटीए के संयुक्त निदेशक बिनोद कुमार साहू द्वारा हलफनामे में प्रस्तुत 'तथ्य' एनसीईआरटी (पृष्ठ संख्या 236,251,264) और एच.सी. वर्मा (खंड-द्वितीय, पृष्ठ संख्या 318) द्वारा भौतिकी की अवधारणाओं जैसे मानक पाठ्य के विपरीत हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वर्मा आईआईटी कानपुर से सेवानिवृत्त फिजिक्स के प्रोफेसर हैं और इस विषय में उनके योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है. कोटा के एक कोचिंग संस्थान में भौतिक विज्ञान के विशेषज्ञ ब्रजेश माहेश्वरी ने कहा, हिंदी और अंग्रेजी संस्करण में प्रश्न का अर्थ अलग-अलग है और इसलिए उनके अलग-अलग उत्तर होने चाहिए. दिलचस्प बात यह है कि इस प्रश्न का कई अन्य भाषाओं में भी अनुवाद किया गया था, लेकिन प्रश्न के केवल हिंदी संस्करण में 'आयाम' शब्द को हटा दिया गया था. मैं छात्रों की मांगों का पूर्ण समर्थन करता हूं और न्याय के लिए उनके साथ खड़ा हूं.