कश्मीर में 'खामोश' भरे माहौल में मन रही ईद, श्रीनगर की ज्यादातर बड़ी मस्जिदों में नहीं पढ़ने दी गई नमाज

Eid Ul Adha: श्रीनगर में कड़ी सुरक्षा प्रतिबंधों के तहत ईद-अल-अजहा मनाया जा रहा है. रिपोर्ट के अनुसार श्रीनगर की अधिकांश बड़ी मस्जिदों में ईद के नमाज की अनुमति नहीं दी गई.

कश्मीर में 'खामोश' भरे माहौल में मन रही ईद, श्रीनगर की ज्यादातर बड़ी मस्जिदों में नहीं पढ़ने दी गई नमाज

Eid Ul Adha: श्रीनगर में कड़ी सुरक्षा प्रतिबंधों के तहत ईद-अल-अजहा मनाया जा रहा है.

खास बातें

  • कश्मीर में 'खामोश' भरे माहौल में मन रही ईद
  • 'श्रीनगर की ज्यादातर बड़ी मस्जिदों में नमाज की इजाजत नहीं'
  • पुलिस ने ट्वीट कर कहा- ईद की नमाज़ शांतिपूर्ण रही
नई दिल्ली/श्रीनगर:

आज ईद-उल-अजहा (Eid Ul Adha) है. देशभर में ईद मनाई जा रही हैं. लोग नमाज अदा रहे हैं और एक दूसरे से गले मिलकर ईद की बधाइयां दे रहे हैं. उधर, ईद के मौके पर घाटी में सुरक्षाबल पूरी तरह मुस्तैद हैं. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में सड़कें सोमवार को सुनसान दिखीं, क्योंकि श्रीनगर में कड़ी सुरक्षा प्रतिबंधों के तहत ईद-अल-अजहा मनाया जा रहा है. रिपोर्ट के अनुसार श्रीनगर की अधिकांश बड़ी मस्जिदों में ईद के नमाज की अनुमति नहीं दी गई. सरकार की तरफ से शेयर की गई तस्वीरों के अनुसार, श्रीनगर की छोटी-छोटी मस्जिदों में ईद की नमाज आयोजित की गई. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ट्वीट किया कि ईद की नमाज़ शांतिपूर्ण रही.

उधर, नमाज के बाद मिठाई बांटते हुए लोगों की फोटो शेयर करते हुए गृह मंत्रालय की प्रवक्ता वसुधा गुप्ता ने ट्वीट किया, 'अनंतनाग, बारामुला, बडगाम, बांदीपोर के सभी स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज बिना किसी अप्रीय घटना के अदा की गई. पुराने शहर बारामुल्ला के जामिया मस्जिद में लगभग 10,000 लोगों ने नमाज अदा की.

बता दें कि सरकार की तरफ से जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के बाद से ही राज्य के बड़े हिस्से में पिछले हफ्ते से सिक्योरिटी लॉकडाउन है. अब जम्मू कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाएंगे.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों की दी ईद की शुभकामनाएं
 
सुरक्षा प्रतिबंध वापस होने से पहले श्रीनगर में रविवार को लोग ईद की खरीदारी के लिए बड़ी संख्या में घरों निकले थे. इससे पहले योजना आयोग के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि, 'लोगों ने बड़ी तादात में ईद के लिए खरीदारी की. बड़ी संख्या में लोग घरों से निकले थे. हम ऐसे लोगों को सुविधा देने की कोशिश कर रहे हैं जो अपने लोगों से मिलने के लिए श्रीनगर जाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि लोगों के लिए परिवहन की सुविधा की व्यवस्था की जा रही है.

ईद पर आजम खान ने लिखा रामपुरवासियों को लिखा भावुक पत्र, कहा- आसमान छूती हुई मजबूत शमां...

वहीं, सूत्रों ने बताया कि इसके बाद पुलिस वाहनों को लाउडस्पीकरों पर घोषणाएं करते देखा गया और लोगों को अपने घरों में लौटने के लिए कहा गया. साथ ही दुकानदारों से भी दुकानों को बंद करने की अपील की गई. बता दें कि कश्मीर घाटी में हजारों सुरक्षाकर्मी तैनात हैं और फोन और इंटरनेट सेवाएं अभी भी बहाल नहीं की गई हैं.


अधिकारियों ने बताया कि ईद को ध्यान में रखते हुए श्रीनगर शहर में छह मंडी/बाजार बनाए गए थे और लोगों के लिए 2.5 लाख भेड़ें उपलब्ध कराई गईं थीं. लोगों के घरों तक सब्जियां, गैस सिलिंडर, मुर्गे-मुर्गियां और अंडे आदि पहुंचाने के लिए वाहनों का इंतजाम किया गया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कश्मीर के ज्यादातर इलाकों में शांति, ईद के लिए खास इंतजाम