गठबंधन का अनुभव अच्‍छा नहीं रहा, तमिलनाडु, केरल, बंगाल और पुदुचेरी में अकेले लड़ेंगे चुनाव: मायावती

मायावती ने कहा, ‘‘हमारी पार्टी का किसी के साथ भी गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा, हमारी पार्टी के नेता तथा कार्यकर्ता और हमारे मतदाता बेहद अनुशासित है. देश की अन्य पार्टियों के साथ ऐसा नहीं है.’’ 

गठबंधन का अनुभव अच्‍छा नहीं रहा, तमिलनाडु, केरल, बंगाल और पुदुचेरी में अकेले लड़ेंगे चुनाव: मायावती

मायावती ने कहा, हमारी पार्टी के नेता तथा कार्यकर्ता और हमारे मतदाता बेहद अनुशासित हैं

लखनऊ:

बहुजन समाज पार्टी (BSP) प्रमुख मायावती (Mayawati) ने सोमवार को ऐलान किया कि उनकी पार्टी चार प्रदेशों- तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी- में बिना किसी गठबंधन के अकेले विधानसभा चुनाव लड़ेगी.मायावती ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी 2022 में होने वाला उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव भी अकेले लड़ेगी .उन्होंने कहा, ‘‘हम चुनाव को लेकर काम कर रहे हैं. हम किसी से ज्यादा रणनीति का खुलासा नहीं करते, बसपा प्रदेश की सभी 403 विधानसभा सीटों पर पूरे दम के साथ चुनाव लड़ेगी और अच्छे परिणाम देगी.'' बसपा प्रमुख ने दावा किया कि उनकी पार्टी यूपी में होने वाले पंचायत चुनावों में बेहतर प्रदर्शन करेगी. मायावती ने सोमवार को पार्टी के संस्थापक कांशीराम की 87वीं जयंती पर उनको याद किया. 

सरकार-किसान वार्ता बेनतीजा रहने पर मायावती ने जताई चिंता, अन्नदाताओं के समर्थन में कही ये बात

इस अवसर पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘हमारी पार्टी का किसी के साथ भी गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा, हमारी पार्टी के नेता तथा कार्यकर्ता और हमारे मतदाता बेहद अनुशासित है. देश की अन्य पार्टियों के साथ ऐसा नहीं है.'' उन्होंने कहा कि किसी के साथ भी गठबंधन में हमारा वोट तो उस पार्टी को स्थानांतरित हो जाता है, जबकि दूसरी पार्टी का वोट हमें नहीं मिल पाता है. यह बेहद ही खराब तथा कड़वा अनुभव है. भविष्य में हम किसी भी दल के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे.उन्होंने कहा कि चार राज्यों के विधानसभा चुनाव में भी हमारी पार्टी अकेले दम पर चुनाव लड़ेगी. पश्चिम बंगाल के साथ ही केरल व तमिलनाडु में हमारी पार्टी का प्रदर्शन भी अच्छा रहेगा. इसके अलावा उप्र में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी सभी सीटो पर अकेले चुनाव लड़ेगी .उनसे पूछा गया कि इससे भाजपा तथा अन्य पार्टियो को फायदा हो सकता है, तो उन्होंने कहा कि हमारा सर्वसमाज का वोट एकजुट रहता है और वह केवल हमारी पार्टी को ही जाता है, इसलिये हमारी पार्टी ने अब हर चुनाव अकेले लड़ने का फैसला लिया है.


'..संन्‍यास लेना पसंद करूंगी': 'बीजेपी को वोट' के कमेंट पर मायावती ने दी सफाई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


किसान आंदोलन पर बसपा नेता ने केंद्र सरकार से कृषि से जुड़े तीनों कानून वापस लेने की मांग दोहराई. उन्होंने कहा किसान आंदोलन में मृतक किसानों के परिजन को उचित आर्थिक सहायता व एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए.कांशीराम की जयंती पर मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी बाबा साहेब डॉ. भीमराम आम्बेडकर तथा कांशीराम के दिखाए रास्ते पर चल रही है. हमारी पार्टी के संस्थापक कांशीराम ने बाबा साहब का रुके कारवां को आगे बढ़ाया. कांशीराम जी ने काफी ऐतिहासिक काम किया. इस अवसर पर पार्टी मान्यवर कांशीराम जी को श्रद्धा अर्पित करती है.उन्होंने कहा कि बसपा ही गरीब व वंचितों की सेवा में लगी है. केवल बसपा ने अपने काम को लगातार आगे बढ़ाने के लिए समाज को अपना सब कुछ दिया है, जिससे दलितों, शोषितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों, मुस्लिमों और अन्य अल्पसंख्यकों को सम्मान मिल सके.मायावती ने कहा कि बसपा उनको मजबूत करने में लगी है. पार्टी का हर कार्यकर्ता इस काम में बड़ी तथा कड़ी मेहनत कर रहा है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)