सरकार द्वारा आतंकी हमलों से निपटने के तरीके में ‘व्यापक बदलाव’ आया : बालाकोट पर IAF प्रमुख

IAF प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान में बहुत भीतर तक घुसकर बालाकोट में मौजूद जैश-ए-मोहम्मद के टेरर कैम्प पर बम गिराने का फैसला राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर सरकार की नीति में बहुत बड़ा बदलाव दिखाता है.

सरकार द्वारा आतंकी हमलों से निपटने के तरीके में ‘व्यापक बदलाव’ आया : बालाकोट पर IAF प्रमुख

भारतीय वायुसेना (IAF) प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया.

नई दिल्ली:

भारतीय वायुसेना (IAF) प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने इसी साल फरवरी में जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकवादी हमले का ज़िक्र करते हुए सभी रक्षा ठिकानों को हर वक्त चौकन्ना रहने की सलाह दी. समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, भारतीय वायुसेना की स्थापना की 87वीं वर्षगांठ के अवसर पर गाज़ियाबाद स्थित हिन्डन एयरबेस में आयोजित कार्यक्रम में IAF प्रमुख ने कहा कि 'पड़ोस में बना मौजूदा सुरक्षा माहौल गंभीर चिंता की वजह' है.

एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने कहा, "पुलवामा में हुआ हमला इस बात की शिद्दत से याद दिलाता है कि सुरक्षा ठिकानों पर लगातार खतरा बना हुआ है..." इसी साल फरवरी में पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर अर्द्धसैनिक बल सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फोर्स (CRPF) के काफिले पर किए गए आत्मघाती हमले में बल के 40 जवान शहीद हो गए थे. भारत ने इसके जवाब में पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी कैम्प पर हवाई हमला किया था.

IAF प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान में बहुत भीतर तक घुसकर बालाकोट में मौजूद जैश-ए-मोहम्मद के टेरर कैम्प पर बम गिराने का फैसला राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर सरकार की नीति में बहुत बड़ा बदलाव दिखाता है.

IAF चीफ बोले- हम घटनाक्रम पर नजर रख रहे हैं, बालाकोट जैसे हमले के लिए तैयार

दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद में हिन्डन एयरफोर्स स्टेशन पर आयोजित कार्यक्रम में आर.के.एस. भदौरिया ने कहा, "इसकी (बालाकोट हवाई हमले की) रणनीतिक प्रासंगिकता यह है कि इससे राजनैतिक नेतृत्व की आतंकवादियों को दंडित करने की दृढ़ इच्छाशक्ति का पता चलता है... सरकार द्वारा आतंकवादी हमलों से निपटे जाने के तरीके में व्यापक बदलाव आया है..."

यह हमारी ही बड़ी गलती थी, क्योंकि हमारी मिसाइल ने हमारे ही चॉपर को मार गिराया था : IAF प्रमुख

एयरफोर्स डे समारोह में हवाई शो भी आकाशगंगा टीम के स्काईडाइवरों द्वारा ए.एन.-32 विमान से तिरंगा लेकर कूदने से शुरू हुआ. भारतीय वायुसेना इस कार्यक्रम में चिनूक हेवी-लिफ्ट ट्विन-रोटर ट्रांसपोर्ट हेलीकॉप्टर तथा अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर का भी प्रदर्शन किया. इन दोनों हेलीकॉप्टरों को हाल ही के महीनों में अमेरिका से लेकर वायुसेना में शामिल किया गया है.


राफेल डील में प्रमुख भूमिका निभाने वाले राकेश कुमार सिंह भदौरिया बने IAF प्रमुख, जानिए उनके बारे में सब कुछ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: वॉर मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि