मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को हटाए जाने पर क्या बोले महाराष्ट्र के गृह मंत्री..

अनिल देशमुख ने कहा, मुख्यमंत्री और हमने बैठकर तय किया कि जांच निष्पक्ष होनी चाहिए उसमें कोई बाधा न आए. इस बात को ध्यान में रखकर उन्‍हें बगल में किया गया है.

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को हटाए जाने पर क्या बोले महाराष्ट्र के गृह मंत्री..

अनिल देशमुश ने कहा, हमने और सीएम ने बैठकर तय किया कि जांच निष्‍पक्ष होनी चाहिए

खास बातें

  • NIA और ATS की जांच में सामने आईं कुछ खास बातें
  • देशमुख ने कहा, हम चाहते हैं जांच निष्‍पक्ष हो
  • इसलिए परमबीर सिंह का तबादला किया
मुंंबई:

मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के पास विस्फोटक मिलने के मामले में महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने स्‍वीकार किया है कि जांच में कुछ ऐसी गलतियां सामने आयी जो माफ करने जैसी नही हैं. एक मराठी चैनल के वार्षिक कार्यक्रम में देशमुख ने कहा कि जांच निष्पक्ष हो इसलिए मुख्यमंत्री उद्ध्व ठाकरे ने परमबीर सिंह का तबादला किया है. देशमुख ने कहा कि जो कल हमने पुलिस आयुक्त की बदली की. जांच में कुछ बातें सामने आयी थीं, जो माफ करने लायक नही थीं. इसलिए मुख्यमंत्री और हमने बैठकर तय किया कि जांच निष्पक्ष होनी चाहिए उसमें कोई बाधा न आए. इस बात को ध्यान में रखकर उन्‍हें बगल में किया गया है.

मुकेश अंबानी के घर के पास विस्‍फोटक मिलने के मामले में NIA ने एक और कार जब्‍त की

इस सवाल पर कि इसके मायने यह हैं कि परमबीर सिंह का तबादला, रूटीन प्रशासकीय तबादला नहीं है, देशमुख ने कहा-ये प्रशासकीय बदली नही है. NIA और ATS जो जांच कर रही है, उसमें कुछ बातें जो सामने आई हैं, उनके कार्यालय में उनके सहकारी की जो गंभीर गलतियां सामने आई हैं, वे माफ करने जैसी नही हैं. देशमुख ने कहा कि अब जांच में जो सामने आएगा उस हिसाब से कार्रवाई होगी.


सचिन वाजे के पास कैश गिनने की मशीन मिलना, दाल में कुछ काला जरूर है : बीजेपी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि मुकेश अंबानी के मुंबई स्थित निवास एंटीलिया के पास विस्‍फोटक से लदी SUV लावारिस हालत में पाए जाने के मामले में NIA  ने पिछले सप्‍ताह पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को गिरफ्तार किया था.मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे को इस मामले में कथित भूमिका के चलते 13 मार्च को गिरफ्तार किया गया था. वह मुंबई पुलिस की अपराध शाखा की अपराध खुफिया इकाई से संबद्ध थे.