अपराधी को भागने में मदद करने के आरोप में कानपुर के बीजेपी लीडर पर पुलिस केस

घटना बुधवार दोपहर को कानपुर के नौबस्‍ता एरिया की है. यूपी पुलिस की टीम ने सिंह को एक गेस्‍ट हाउस के पान शॉप से बाहर अरेस्‍ट किया था.

खास बातें

  • पुलिस ने की पुष्टि, FIR में बीजेपी नेता नारायण सिंह का नाम है शामिल
  • आरोपी मनोज पर एक दर्जन से अधिक केस हैं दर्ज
  • इसमें हत्‍या, जबरिया वसूली, रेप के मामले भी शामिल
कानपुर :

उत्‍तर प्रदेश के कानपुर शहर के एक बीजेपी नेता, एक वांटेड अपराधी की गिरफ्तारी के बाद उसे कथित तौर पर भागने में मदद करने में मामले में पुलिस केस का सामना कर रहे हैं. कानपुर पुलिस कमिश्‍नर असीम अरुण ने इस बात की पुष्टि की है कि पुलिस ने बीजेपी नेता नारायण सिंह भदौरिया का नाम एफआईआर में शामिल किया है. उनकी उस वीडियो में उस स्‍थान पर मौजूदगी की पुष्टि हुई थी जहां से वांटेड क्रिमिनल मनोज सिंह भागा था. मनोज पर एक दर्जन से अधिक केस दर्ज है, इसमें हत्‍या, जबरन वसूली और रेप जैसे गंभीर आरोप शामिल हैं. भदौरिया कानपुर के बीजेपी नेता हैं और शहर के पार्टी संगठन में भी पद संभाल रहे हैं.अब मामला दर्ज कर भदौरिया और उसके साथियों की तलाश में पुलिस की दबिश जारी है.


घटना बुधवार दोपहर को कानपुर के नौबस्‍ता एरिया की है. यूपी पुलिस की टीम ने सिंह को एक गेस्‍ट हाउस के पान शॉप से बाहर अरेस्‍ट किया था, गेस्‍ट हाउस में बीजेपी नेता भदौरिया की बर्थडे पार्टी आयोजित हो रही थी. बताया जाता है कि मनोज सिंह भी समारोह का हिस्‍सा था. लोगों द्वारा मोबाइल फोन पर रिकॉर्ड किए गए वीडियो में पुलिस अधिकारियों को सादे कपड़ों में देखा जा सकता है. यूनिफार्म में मौजूद कुछ पुलिसकर्मी द्वारा सिंह को पुलिस जीप में ले जाया जा रहा है, इस दौरान सैकड़ों की संख्‍या में लोग, पुलिस वालों के साथ बहस करते और उन्‍हें धक्‍का देते नजर आ रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक वीडियो में दिख रहा है कि पुलिस, मनोज को जीप में धकेलने में सफल हो जाती है. अलग एंगल से लिए गए एक अन्‍य वीडियो में दिख रहा है कि पुलिस जीप को सड़क के बीच में लोगों ने घेर रखा है. अचानक भीड़ तितरबितर हो जाती है और लोग सभी दिशाओं में भागने लगते हैं. कुछ पुलिसकर्मियों का उनका पीछा करते हुए भी देखा जा सकता है. पुलिस के अनुसार, इसी दौरान मनोज सिंह भाग जाता है. कानपुर की वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी रवीना त्‍यागी ने एक बयान में कहा, 'वे सिंह को छुड़ाने में सफल रहे. हमने कड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. आरोपी की गिरफ्तारी के लिए सारे प्रयास किए जा रहे हैं.'