जेपी नड्डा बने BJP के कार्यकारी अध्यक्ष, संसदीय बोर्ड की बैठक में हुआ फैसला

जेपी नड्डा (JP Nadda) को BJP का कार्यकारी अध्यक्ष (BJP working President) बनाया गया है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) की संसदीय बोर्ड की बैठक में यह फैसला लिया गया है.

खास बातें

  • जेपी नड्डा बने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष
  • BJP की संसदीय बोर्ड की बैठक में हुआ फैसला
  • बोर्ड की बैठक में पीएम मोदी भी थे शामिल
नई दिल्ली:

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा (JP Nadda) को BJP का कार्यकारी अध्यक्ष (BJP working President) बनाया गया है. भारतीय जनता पार्टी की संसदीय बोर्ड (BJP Parliamentary Board Meeting) की बैठक में यह फैसला लिया गया. बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) के नाम की चर्चा पहले से ही चल रही थी. बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे. अमित शाह (Amit Shah) बीजेपी अध्यक्ष बने रहेंगे.

बैठक के बाद रक्षा मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि अमित शाह जी के नेतृत्व में भाजपा ने कई चुनाव जीते, लेकिन जब से प्रधानमंत्री ने उन्हें गृह मंत्री नियुक्त किया, अमित शाह जी ने खुद कहा कि पार्टी अध्यक्ष की जिम्मेदारी किसी और को दी जानी चाहिए. भाजपा संसदीय बोर्ड ने जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष चुना है.

मणिपुर के मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता एन बीरेन सिंह ने जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष चुने जाने की बधाई दी.


मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी जेपी नड्डा को बीजेपी का कार्यकारी अध्यक्ष बनने पर शुभकामनाएं दीं. शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, 'वरिष्ठ नेता जेपी नड्डा को बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष मनोनित होने पर मेरी हार्दिक शुभकामनाएं. आप सौम्य, सरल व्यक्तित्व के धनी हैं और राजनीति व संगठन में कार्य करने का लंबा अनुभव रखते हैं. आपसे प्रेरित होकर प्रत्येक कार्यकर्ता राष्ट्रनिर्माण में अपना अभूतपूर्व योगदान देगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कौन हैं जेपी नड्डा (Who is JP Nadda)?
बीजेपी के वरिष्ठ नेता जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) राज्यसभा के सदस्य हैं. पटना में 1960 में जन्में जगत प्रकाश नड्डा ने बीए और एलएलबी की परीक्षा पटना से पास की थी और शुरुआत से ही वे एवीबीपी से जुड़े हुए थे. वे पहली बार 1993 में हिमाचल प्रदेश से विधायक चुने गए थे. उसके बाद वे राज्य और केंद्र में मंत्री भी रहे हैं. जेपी नड्डा 1994 से 1998 तक विधानसभा में पार्टी के नेता भी रह चुके हैं. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में जेपी नड्डा को स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया था.