पहला 'AC 3-टियर इकॉनमी क्लास कोच' लेकर आया रेलवे, जानें क्या हैं खासियतें

रेलवे अपना पहला एसी थ्री-टियर इकॉनमी क्लास का कोच ले आया है. ये कोच मौजूदा थर्ड एसी और स्लीपर क्लास के श्रेणी के बीच के कैटेगरी के होंगे. इनकी डिजाइन सामान्य कोच से अलग होगी.

पहला 'AC 3-टियर इकॉनमी क्लास कोच' लेकर आया रेलवे, जानें क्या हैं खासियतें

रेलवे ने अपने इस कोच को 'दुनिया का सबसे सस्ता AC ट्रैवल' बताया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने बुधवार को पहला वातानूकूलित (एसी) थ्री-टियर किफायती श्रेणी (इकोनॉमी क्लास) सामने लेकर आया है, जिसे रेल मंत्रालय ने ‘दुनिया का सबसे सस्ता और सबसे बेहतरीन एसी यात्रा' करार दिया है. अधिकारियों ने बताया कि ये डिब्बे ‘किफायती' होंगे और ये मौजूदा एसी थ्री-टियर और गैर एसी शयनयान वर्ग के डिब्बों के बीच की श्रेणी में रखे जाएंगे. यानी कि ये कोच मौजूदा थर्ड एसी और स्लीपर क्लास के डिब्बों के बीच की चीज होंगे. इनका डिजाइन भी काफी कुछ बदला गया है. यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए कई नई चीजें जोड़ी गई हैं. 

इसे रेल कोच फैक्टरी (आरसीएफ) कपूरथला ने आगे के परीक्षण के लिए लखनऊ के अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन के पास भेजा है. इस कोच की परिकल्पना आरसीएफ ने तैयार की और इसके डिजाइन पर अक्टूबर, 2020 से लगातार काम हुआ. इस नए कोच में ज्यादा यात्री सफर कर सकते हैं क्योंकि इसमें बर्थ की संख्या बढ़ाकर 72 से 83 की गई है.

यह भी पढ़ें : 2030 तक भारतीय रेलवे विश्व की पहली प्रदूषण मुक्त रेलवे बन जाएगी: पीयूष गोयल


मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि इस डिजाइन में कई नए बदलाव किए गए हैं. प्रत्येक कोच में दिव्यांग लोगों की सुगमता के हिसाब से शौचालय का दरवाजा तैयार किया गया है. डिजाइन में यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए कई तरह के सुधार किए गए हैं, पहले की तुलना में अब हर बर्थ पर एसी ‘डक्ट' लगा रहेगा, जहां से ठंडी हवा आती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं इन कोचों में प्रत्येक बर्थ पर 'निजी' लाइट लगाई गई है, जिससे यात्री अब आराम से पढ़ सकते हैं और मोबाइल चार्जिंग प्वांइट भी हर बर्थ पर दी गई है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)