विभिन्न देशों के साथ संसदीय डिप्लोमेसी को बढ़ावा देता है भारतीय संसदीय समूह: लोकसभा अध्यक्ष

समूह की बैठक को संबोधित करते हुए ओम बिरला ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोकतांत्रिक देशों के साथ विचारों के आदान प्रदान में भारतीय संसदीय समूह की अहम भूमिका रही है.

विभिन्न देशों के साथ संसदीय  डिप्लोमेसी को बढ़ावा देता है भारतीय संसदीय समूह: लोकसभा अध्यक्ष

भारतीय संसदीय समूह ने विभिन्न देशों के साथ संसदीय कूटनीति को बढावा दिया है: ओम बिरला

नई दिल्ली:

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आज संसद भवन परिसर में भारतीय संसदीय समूह (Indian Parliamentary Group)की वार्षिक आम बैठक कि अध्यक्षता की. बैठक में राज्य सभा के उप सभापति हरिवंश तथा वाणिज्य के एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री व राज्य सभा में सदन के नेता  पीयूष गोयल ने भी भाग लिया. इस बैठक में लोक सभा व राज्य सभा के सौ से अधिक वर्त्तमान व भूतपूर्व सांसद भी शामिल हुए. 

एक साथ नजर आए पीएम मोदी और सोनिया गांधी, पक्ष और विपक्ष के नेताओं के साथ ओम बिरला ने की बैठक

समूह की बैठक को संबोधित करते हुए ओम बिरला ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोकतांत्रिक देशों के साथ विचारों के आदान प्रदान में भारतीय संसदीय समूह की अहम भूमिका रही है. उन्होंने आगे कहा कि भारतीय संसदीय समूह ने विभिन्न देशों के साथ संसदीय कूटनीति को बढावा दिया है एवं देश के लोकतान्त्रिक मूल्यों को निरंतर विश्व के साथ सांझा करने में अग्रणी भूमिका निभाई  है.  उन्होंने  कहा कि देश के लोकतांत्रिक संस्थाओं को और सशक्त, मजबूत और पारदर्शी बनाने में भारतीय संसदीय समूह का अहम योगदान रहा है. 

समूह के सदस्यों के व्यापक अनुभव का उल्लेख करते हुए लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय संसदीय समूह समकालीन राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक तथा अन्य विषयों पर विचार साझा करता रहा है जिसका लाभ देश के आम जनमानस को मिला है. समूह द्वारा आयोजित उत्कृष्ट सांसद पुरस्कार समारोह के विषय में ओम बिरला ने बताया की यह पुरस्कार अब से एक लोक सभा की कार्य अवधि में दो बार आयोजित होगा. उन्होंने आगे बताया की इसी वर्ष 2018, 2019 व 2020 के लिए 'उत्कृष्ट सांसद पुरस्कार दिए जाएंगे. 


Parliament Session: लोकसभा स्‍पीकर ने कार्यवाही हंगामे की भेंट चढ़ने पर जताई पीड़ा, बोले-कोशिश थी, सब बात रखते

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बैठक में टोक्यो ओलंपिक के पदक विजेताओं के अभिनंदन का प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया जिसे सर्व सहमति से पारित किया गया.  समूह की कार्यकारिणी समिति के प्रस्ताव का उल्लेख करते हुए बिरला ने बताया की अन्य देशों की संसदों के साथ बनने वाले मैत्री समूह में संसद सदस्यों की संख्या 9 से बढ़कर 12 की जाएगी जिसमे 4 सदस्य राज्य सभा एवं 8 सदस्य लोक सभा से होंगे.  भारत की स्वाधीनता के 75 वर्ष पूर्ण होने पर अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य पर संसद के विशेष सत्र के आयोजन पर भी कार्यकारिणी समिति ने सहमति जताई. इससे पहले सभा ने भारतीय संसदीय समूह के दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि दी. कोरोना काल के कारण यह बैठक 17 वी लोक सभा के कार्यकाल में पहली बार आयोजित की गयी थी.