Hijab विवाद : आंध्र प्रदेश के कॉलेज में  छात्राएं ने फर्जी ‘हिजाब’ नाटक कर मुद्दा बनाने की कोशिश की

आंध्र प्रदेश में विजयवाड़ा (Vijayawada) के एक कॉलेज में दो छात्राओं ने कॉलेज अधिकारियों द्वारा कथित तौर पर फटकार के डर से गुरुवार को एक फर्जी ‘हिजाब’ (Hijab) नाटक किया.

Hijab विवाद : आंध्र प्रदेश के कॉलेज में  छात्राएं ने फर्जी ‘हिजाब’ नाटक कर मुद्दा बनाने की कोशिश की

प्राचार्य ने कहा इस बात पर फैसला करेंगे कि कल से पारंपरिक पोशाक की अनुमति दी जाए या नहीं.

अमरावती:

आंध्र प्रदेश में विजयवाड़ा (Vijayawada) के एक कॉलेज में दो छात्राओं ने कॉलेज अधिकारियों द्वारा कथित तौर पर फटकार के डर से गुरुवार को एक फर्जी ‘हिजाब' (Hijab) नाटक किया. हालांकि यह मामला बिना किसी विवाद के समाप्त हो गया और चीजें सामान्य रहीं. अपने अनुशासन के लिए पहचान रखने वाले 69 साल पुराने जेसुइट शैक्षणिक संस्थान के इतिहास में ऐसा कोई मुद्दा नहीं देखा गया है. जब प्राचार्य जी ए पी किशोर सुबह संस्थान का निरीक्षण कर रहे थे तब दो छात्राएं (Students) कॉलेज के गलियारे में घूमती हुई पाई गई. प्राचार्य ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैंने उनसे पूछा कि वे वहां क्या कर रही हैं और उन्हें (अपनी पारंपरिक पोशाक बदलने के बाद) वर्दी में कक्षा में जाने के लिए कहा.

'भारत के अंदरूनी मामले पर बाहर के लोगों को बोलने का हक नहीं' : Hijab row पर विदेश मंत्रालय की दो टूक

''पुलिस के अनुसार, लड़कियों ने इसके बजाय अपने माता-पिता को फोन किया और ‘‘शिकायत'' की कि उन्हें कॉलेज की वर्दी पहनने और पारंपरिक पोशाक नहीं पहनने के लिए कहा जा रहा है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘कॉलेज में यह एक सामान्य बात है कि जो छात्राएं अपनी पारंपरिक पोशाक में आती हैं, वे कक्षा में प्रवेश करने से पहले, इसे बदलकर वर्दी पहनती हैं. कपड़े बदलने के लिए एक अलग कमरा है.'' पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘ये दोनों लड़कियां भी रोज ऐसा ही करती थीं लेकिन आज किसी तरह उन्होंने इसे मुद्दा बनाने की कोशिश की. संभवत: उन्हें किसी तरह की फटकार का डर था क्योंकि वे आज देर से कॉलेज आई थीं और प्राचार्य ने उनसे पूछताछ की.

हिजाब केस LIVE Updates:"हिजाब पर रोक कुरान पर प्रतिबंध लगाने के बराबर ": छात्रों ने कर्नाटक HC में कहा

पुलिस ने कहा कि लड़कियों के माता-पिता धार्मिक प्रवृत्ति के कुछ व्यक्तियों के साथ कॉलेज आए और प्राचार्य से बात की और मामला सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझा लिया गया. कृष्णा के जिलाधिकारी जे निवास ने कॉलेज प्राचार्य से बात कर घटना की जानकारी ली. दिलचस्प बात यह है कि कई अन्य छात्राओं को अपने पारंपरिक परिधानों में स्वतंत्र रूप से कॉलेज के अंदर और बाहर आते-जाते हुए पाया गया और किसी ने शिकायत नहीं की. प्राचार्य ने कहा कि प्रत्येक विद्यार्थी ने कॉलेज में दाखिला लेने के दौरान एक आचार संहिता पर हस्ताक्षर किए थे, जिसमें ‘ड्रेस कोड' का पालन करना भी शामिल था. उन्होंने कहा, ‘‘हम इस बात पर फैसला करेंगे कि कल से पारंपरिक पोशाक की अनुमति दी जाए या नहीं.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गाजियाबाद में हिजाब पहने प्रदर्शन कर रही महिलाओं पर पुलिस ने लाठियां बरसाईं, VIDEO वायरल



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)