Farm Laws: किसानों के 12 और 14 दिसंबर के प्रदर्शन का समर्थन करेंगे देश के 10 बड़े मजदूर संगठन

14 अक्टूबर के बाद पिछले करीब दो माह में भारत सरकार और किसान संगठनों के बीच 6 दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन इसके बावजूद अहम मुद्दों पर दोनों पक्षों के बीच गतिरोध बना हुआ है.

Farm Laws: किसानों के 12 और 14 दिसंबर के प्रदर्शन का समर्थन करेंगे देश के 10 बड़े मजदूर संगठन

10 मजदूर संगठनों ने किसानों के प्रदर्शन को समर्थन देने का ऐलान किया है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

Farmers Protest: देश के 10 बड़े केंद्रीय मजदूर संगठनों ने 12 दिसंबर और 14 दिसंबर को किसान संगठनों के विरोध प्रदर्शन के ऐलान का समर्थन करने का फैसला किया है. सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन्‍स (CITU) महासचिव तपन सेन ने NDTV से कहा, "देश के 10 बड़े केंद्रीय मजदूर संगठनों के नेता और कार्यकर्ता 12 दिसंबर और 14 दिसंबर को सभी किसान संगठनों के विरोध कार्यक्रम में भाग लेंगे और उनके समर्थन में देश के हर राज्य में सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगे". 

सरकार के भेजे प्रस्ताव पर विचार करें किसान संगठन, हम बातचीत के लिए हमेशा तैयार हैं : कृषि मंत्री 

14 अक्टूबर के बाद पिछले करीब दो माह में भारत सरकार और किसान संगठनों के बीच 6 दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन इसके बावजूद अहम मुद्दों पर दोनों पक्षों के बीच गतिरोध बना हुआ है. बीच का रास्ता निकलता नहीं दिख रहा. अब सरकार के सामने अगली चुनौती 12 और 14 दिसंबर को किसान संगठनों और मजदूर संगठनों के विरोध प्रदर्शनों से निपटने की होगी.

किसानों ने केंद्र सरकार की ओर से रखे गए प्रस्‍ताव को नामंजूर कर दिया है और अपना आंदोलन और तेज करने का ऐलान किया है. आंदोलनरत किसानों ने दोटूक अंदाज में कहा है, जब तक तीनों किसान काननों को वापस नहीं लिया जाएगा, वे पीछे हटने को तैयार नहीं हैं. इस बीच, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने एक फिर किसान संगठनों ने सरकार के लिखित प्रस्‍ताव पर विचार करने का आग्रह किया है. कृषि मंत्री ने कहा कि किसान संगठनों से आग्रह करना करता हूं कि वह सरकार की तरफ से दिए गए लिखित प्रस्ताव पर विचार करें और जब भी उस प्रस्ताव पर चर्चा के लिए उनकी तरफ से कहा जाएगा सरकार बातचीत के लिए तैयार रहेगी.


किसानों ने सरकार का खारिज किया प्रस्ताव

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com