वैक्सीनेशन सेंटर में भी 18 साल से बड़े हर शख्स का होगा CoWin ऐप पर रजिस्ट्रेशन

कोविन ऐप डिजिटल प्लेटफॉर्म (CoWIN digital platform)ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए तैयार किया गया था,लेकिन बहुत सारे लोग स्मार्टफोन न होने या अन्य समस्याओं के कारण टीके के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं करा पा रहे हैं. 

वैक्सीनेशन सेंटर में भी 18 साल से बड़े हर शख्स का होगा CoWin ऐप पर रजिस्ट्रेशन

CoWIN digital platform पर पहले 18-44 आयु वर्ग के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन ही होता था

खास बातें

  • 1 मई से शुरू हुआ था 18 से अधिक उम्र के लोगों के लिए वैक्सीनेशन
  • देश में 16 जनवरी से शुरू हुआ था टीकाकरण कार्यक्रम
  • पिछले एक डेढ़ माह में टीकाकरण की रफ्तार रही है धीमी
नई दिल्ली:

Covid Vaccination: केंद्र सरकार ने 18 साल से अधिक उम्र के हर शख्स को कोविड वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण के साथ ऑफलाइन यानी कोविड वैक्सीनेशन सेंटर जाकर कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन (CoWin Registration) कराने की सुविधा दे दी है. सरकार ने यह भी कहा है कि वैक्सीनेशन को लेकर हिचकिचाहट को भी दूर किया जाएगा. इसके लिए वैश्विक स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा. देश में अब 26 करोड़ के करीब लोगों को कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी है. कोविन ऐप डिजिटल प्लेटफॉर्म (CoWIN digital platform) ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए तैयार किया गया था,लेकिन बहुत सारे लोग स्मार्टफोन न होने या अन्य समस्याओं के कारण टीके के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं करा पा रहे हैं. 
Corona Vaccination: दिल्ली में 'जहां वोट-वहां वैक्सीनेशन' अभियान शुरू, जानें क्या बोले सीएम केजरीवाल

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अब यह अनिवार्य नहीं होगा कि टीकाकरण के लिए पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराके वैक्सीन लगवाने का अप्वाइंटमेंट लिया जाए. सरकार का कहना है कि नए फैसले से वैक्सीनेशन की गति बढ़ेगी. साथ ही टीकाकरण से दूर भाग रहे लोग भी इस प्रक्रिया से जुड़ेंगे. देश के कई ग्रामीण इलाकों में अभी भी वैक्सीनेशन को लेकर हिचकिचाहट, डर और भ्रम देखे जा रहे हैं. केंद्र सरकार ने इसके लिए कोविड-19 वैक्सीन कम्यूनिकेशन स्ट्रेटजी तैयार की
गई है. 


यूपी के एक इलाके में वैक्सीन लगवाने आए दल को देखकर एक बुजुर्ग महिला एक ड्रम के पीछे छिपने का वीडियो काफी वायरल हुआ था. वहीं मध्य प्रदेश की एक रिपोर्ट में ग्रामीण और आदिवासी इलाकों में वैक्सीन से दूर भागने की खबरें आई हैं.तमिलनाडु जैसे राज्यों में भी वैक्सीनेशन की गति बहुत धीमी है. जहां हेल्थकेयर सिस्टम बहुत अच्छा है. लेकिन वह टीकाकरण की रफ्तार के मामले में सबसे 5 खराब प्रदर्शन वाले राज्यों में है. विशेषज्ञों का कहना है कि 18 से 44 साल आयु वर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन करने से लॉकडाउन में ढील के बाद आर्थिक और व्यावसायिक गतिविधियों को दोबारा आसानी से शुरू किया जा सकेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारत में मंगलवार सुबह 61 हजार से कम कोविड केस सामने आए, यह 31 मार्च के बाद एक दिन में कोरोना के सबसे कम मामले हैं. लगातार आठ दिनों से कोरोना के मामले एक लाख से भी कम रहे हैं. विशेषज्ञों ने संभावना जताई है कि कोरोना वायरस की सेकेंड वेव पीक पर जाने के बाद अब नीचे आने लगी है.