कोरोना काल में भी ‘पीपल बाबा’ ने लगाए 1 लाख से ज्यादा पौधे

स्थिति यह है कि 2020 को लोग कयामत लाने वाला और उदासीनता से भरा हुआ साल बताते हैं. लेकिन इन सभी के बीच कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो अलग ही अंदाज में जिंदगी को देख रहे हैं, उसे भरपूर जी रहे हैं.

कोरोना काल में भी ‘पीपल बाबा’ ने लगाए 1 लाख से ज्यादा पौधे

कोरोना संकट के दौैर में भी पौधारोपण का बनाया रिकॉर्ड (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

विश्व भर में कोरोना संकट का कहर देखा जा रहा है. अर्थव्यवस्था से लेकर हर मोर्चे पर गिरावट देखने को मिल रही है. लाखों लोग इस संकट में अपनी जान गवा बैठे हैं. लोगों के सामने रोजगार संकट देखने को मिल रहा है. लेकिन इन सभी के बीच कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो अलग ही अंदाज में जिंदगी को देख रहे हैं, उसे भरपूर जी रहे हैं. हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें लोग ‘पीपल बाबा' के नाम से जानते हैं. जी हां, हैरान मत होईए. पीपल बाबा को लोग ‘पीपल बाबा' के नाम से इसलिए पुकारते हैं, क्योंकि वो घूम-घूमकर पौधे लगाते हैं.


आपको बता दें कि, पीपल बाबा 43 वर्षों से पौधे लगा रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि 2020 में एक तरफ लोग लॉकडाउन में फंसे हुए थे और कोरोना महामारी और उसके प्रभावों से जूझ रहे थे, उसी में पीपल बाबा पौधे लगाने का रिकॉर्ड बना रहे थे. आपको जानकर ताज्जुब होगा कि कोरोना काल में पीपल बाबा एक लाख से ज्यादा पौधे लगा चुके हैं. हालांकि “पौधा लगाओ अभियान” में उन्होंने कोरोना नियमों का पूरी तरह से पालन किया. उन्होंने देशभर में घूम-घूमकर पौधा लगाने के बीच मास्क, ग्लव्स और सोशल डिस्टेंस का पालन किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि पीपल बाबा की टीम ने कोरोना काल में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को अपनी कर्मभूमि बनाया.इस साल पीपल बाबा की टीम नें जहां एन सी आर से जुड़े  दिल्ली में 8340 पेड़, नॉएडा में 33,400, ग्रेटर नॉएडा में 28,600, गाजियाबाद में 4,200 पेड़ लगाया वहीँ लखनऊ में 30,280 पेड़, उत्तराखंड में 3820 पेड़ , हरियाणा (सोहना-बहादुरगढ़ रोड पर ) में 3140 पेड़ लगाए.