दिल्ली पुलिस ने 500 से अधिक लोगों से साढ़े तीन करोड़ ठगने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया

निवेश कराने के नाम पर 500 से ज्यादा लोगों से करीब साढ़े तीन करोड़ की ठगी करने वाले आरोपी को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की आर्थिक अपराध शाखा (Economic Offenses Wing) ने गिरफ्तार किया है.

दिल्ली पुलिस ने 500 से अधिक लोगों से साढ़े तीन करोड़ ठगने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया

वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी अन्य संचालकों के साथ फरार हो गया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की आर्थिक अपराध शाखा (Economic Offenses Wing) ने निवेश कराने के नाम पर 500 से ज्यादा लोगों से करीब साढ़े तीन करोड़ की ठगी करने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है. आर्थिक अपराध शाखा के एडिशनल कमिश्नर के मुताबिक उन्हें 38 लोगों ने शिकायत देकर बताया कि पहाड़गंज में प्रोग्रेस प्रोड्यूसर लिमिटेड नाम कंपनी के निदेशक मुरारी कुमार श्रीवास्तव ने उन्हें निवेश करने के नाम पर मोटे रिटर्न का झांसा दिया, इस तरह अलग अलग योजनाओं में उन लोगों ने अपनी गाढ़ी कमाई लगा दी.शुरुआत में कई लोगों को 18 प्रतिशत ब्याज भी मिला. लेनदेन के लिए बाकायदा निवेशकों को पासबुक भी जारी की गई. 531 पीड़ितों ने कथित कंपनी की कई योजनाओं में 3.5 करोड़ रुपया निवेश कर दिया. अधिकांश भुगतान नकद में लिया गया.

2018 में अलग अलग योजनाओं में निवेशकों का लगा पैसा ब्याज के साथ एकमुश्त वापस किया जाना था और जब निवेशकों ने मुरारी कुमार श्रीवास्तव और कंपनी के अन्य निदेशकों से अपना पैसा वापस करने के लिए कहना शुरू किया तो उन्होंने कार्यालय बंद कर दिया और अपनी सभी संपत्तियां बेच दीं और फरार हो गए. 

महाराष्ट्र : ED ने धोखाधड़ी के मामले में पूर्व विधायक की 234 करोड़ की संपत्ति जब्त की


पुलिस ने साल 2018 में केस दर्ज किया था. आरोपी मुरारी कुमार श्रीवास्तव की कंपनी भारतीय रिजर्व बैंक के साथ पंजीकृत नहीं पाई गई और किसी भी योजना में निवेशकों से धन एकत्र करने के लिए अधिकृत नहीं थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी अन्य संचालकों के साथ फरार हो गया. उन्हें इलेक्ट्रॉनिक निगरानी और स्थानीय खुफिया जानकारी के आधार पर ट्रैक किया गया था और निरंतर प्रयासों के बाद उसे बिहार के सीतामढ़ी जिले के हुमायूंपुर गांव से गिरफ्तार किया गया था. ठगी की राशि और उसके डायवर्जन के संबंध में और अपराध में अन्य सहयोगियों का पता लगाने के संबंध में आगे की जांच जारी है.