दिल्ली पुलिस ने पत्रकार मनदीप पुनिया को किया गिरफ्तार, मजिस्ट्रेट के सामने पेशी के बाद भेजे गए तिहाड़

पुलिस सूत्रों के मुताबिक धर्मेंद्र से एक अंडरटेकिंग ली गई है कि वो पुलिस के साथ भविष्य में अभद्रता नहीं करेंगे. मनदीप पुनिया को दोपहर बाद म्यूनिसिपल मजिस्ट्रेट के पास पेश कर सकती है. पुलिस ने दोनों पत्रकारों को कल उस वक्त हिरासत में ले लिया था जब दोनों सिंघू बार्डर पर खबर की कवरेज कर रहे थे.

दिल्ली पुलिस ने पत्रकार मनदीप पुनिया को किया गिरफ्तार, मजिस्ट्रेट के सामने पेशी के बाद भेजे गए तिहाड़

पत्रकार मनदीप पुनिया के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 186, 323 और 353 के तहत आरोप दर्ज किए गए हैं.

खास बातें

  • दिल्ली पुलिस ने पत्रकार मनदीप पुनिया को किया गिरफ्तार
  • पुनिया ने फेसबुक लाइव कर कहा था कि पुलिस की मौजदूगी में हुई थी हिंसा
  • पुलिस ने दूसरे पत्रकार धर्मेंद्र सिंह से अंडरटेकिंग लेकर छोड़ा
नई दिल्ली:

किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) को कवर कर रहे स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पुनिया (Mandeep Punia) को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने गिरफ्तार कर आज दोपहर म्यूनिसिपल मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया. इसके बाद उन्हें तिहाड़ जेल भेज दिया गया. उनके खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 186, 323 और 353 के तहत आरोप दर्ज किए गए हैं. पुनिया पर सिंघू बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस के एसचओ से अभद्रता के आरोप लगाए गए हैं.  इससे पहले पुनिया के साथ-साथ दूसरे पत्रकार धर्मेंद्र सिंह को भी हिरासत में लिया था लेकिन पुलिस ने धर्मेंद्र को आज सुबह करीब 5.30 बजे छोड़ दिया जबकि पुनिया के खिलाफ आरोप दर्ज कर लिया. दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त ने इसकी पुष्टि की है.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक धर्मेंद्र सिंह से एक अंडरटेकिंग ली गई है कि वो पुलिस के साथ भविष्य में अभद्रता नहीं करेंगे. पुलिस ने दोनों पत्रकारों को कल उस वक्त हिरासत में ले लिया था जब दोनों सिंघू बार्डर पर खबर की कवरेज कर रहे थे. उस वक्त दोनों पत्रकार बंद सड़क और बैरिकेड की ओर आगे बढ़ रहे थे.

'कड़े सुरक्षा घेरे' के बीच चल रहा किसानों का आंदोलन, सरकार के साथ अगली बैठक 2 फरवरी को

पुनिया को हिरासत में लेने का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें दिख रहा है कि बड़ी संख्या में पुलिस के जवान उसे घेरे हुए हैं और कहां लेकर जा रहे हैं. हिरासत में लिए जाने से कुछ घंटे पहले पुनिया ने सिंघु बॉर्डर पर हुई हिंसा के संबंध में फेसबुक पर एक लाइव वीडियो शेयर किया था. इसमें उन्‍होंने कहा था  कैसे खुद को स्‍थानीय होने का दावा करने वाली भीड़ ने आंदोलनस्‍थल पर पुलिस की मौजूदगी में पथराव किया था.


किसानों के समर्थन में सड़क पर हरियाणा कांग्रेस, सभी प्रखंडों में 3 दिनों तक शांति मार्च का एलान

वीडियो- कृषि कानूनों पर भारत सरकार का प्रस्ताव बरकरार : PM मोदी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com