कोरोना से जंग : दिल्ली में व्यापारियों के बाद RWA के संगठन ने भी की पूर्ण लॉकडाउन की मांग, उप-राज्यपाल को लिखा खत

RWA के संगठन URD ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर लॉकडाउन की मांग की है. उप राज्यपाल को लिखे खत में कहा गया है, 'दिल्ली की हालात भयावह होती जा रही है. दिल्ली के सभी बडे व्यापारी संगठन आर्थिक नुकसान को सहने को तैयार हैं.'

कोरोना से जंग : दिल्ली में व्यापारियों के बाद RWA के संगठन ने भी की पूर्ण लॉकडाउन की मांग, उप-राज्यपाल को लिखा खत

दिल्ली में कोविड-19 के एक दिन में सबसे अधिक 25,462 नए मामले सामने आए.

नई दिल्ली:

दिल्ली में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. रविवार को दिल्ली में कोविड-19 के एक दिन में सबसे अधिक 25,462 नए मामले सामने आए और संक्रमण की दर बढ़कर 29.74 प्रतिशत हो गई. इस बीच व्यापारियों के बाद अब दिल्ली के नागरिकों ने पूर्ण लॉकडाउन की मांग की है. RWA के संगठन URD ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर लॉकडाउन की मांग की है. उप राज्यपाल को लिखे खत में कहा गया है, 'दिल्ली की हालात भयावह होती जा रही है. दिल्ली के सभी बडे व्यापारी संगठन आर्थिक नुकसान को सहने को तैयार हैं और खुद से चाहते हैं कि इस महामारी की चेन को तोड़ने के लिए अगले 14 दिन लॉकडाउन करा जाए.'

साथ ही लिखा है, 'हमारा आरडब्ल्यूए संगठन जो दिल्ली की करीब 1800 आरडब्ल्यूए का सीधा जुड़ा हुआ है. व्यापारी वर्ग की इस मांग का पूरा समर्थन करता है और आपसे यह अनुरोध करता है कि अगले 14 दिन के लिए आप दिल्ली में लॉकडाउन लगाने के आदेश तुरंत प्रभाव से जारी किया जाएं. पैसा तो हम सब फिर मेहनत कर कमा लेंगे मगर जो जान इस वक्त अपनों की जा रही है और जो अस्पताल के खर्चे लोग उठाने मे आर्थिक रूप से कमजोर हो रहे और मानसिक पीड़ा झेल रहे है कम से कम उससे तो कुछ राहत मिल सकेगी.'

कंट्रोल से बाहर हुआ कोरोना, 1.4 करोड़ से 1.5 करोड़ मामले पहुंचने में लगा मात्र 4 दिन का वक्त


दिल्ली में पिछले 24 घंटे में संक्रमण से 161 और मरीजों की मौत हो गई. इससे एक दिन पहले कोविड-19 के 24,375 नए मामले सामने आए थे और 167 मरीजों की मौत हुई थी. नए मामले सामने आने से राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या बढ़कर 8,53,460 हो गई है, वहीं मरने वालों की संख्या बढ़कर 12,121 हो गई है. (इनपुट भाषा से भी)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोरोना की दूसरी लहर का कहर, ढाई लाख से ज्यादा मामलों से राज्यों पर बढ़ा दबाव