वैक्सीन के बाद भी कोरोना संक्रमण को लेकर प्रशासन चौकस, लॉन्च करेगा ट्रैकिंग प्लेटफॉर्म : सूत्र

देशभर में अब तक हुए ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन की एनालिसिस के लिए एक पूरी स्ट्रीम और टीम काम कर रही है. राज्यों से ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन वाले सैंपल मांगे जा रहे हैं और जेनिमिक सीक्वेंसिंग की जा रही है ताकि वायरस के आकार, प्रकार, व्यवहार पर नज़र रखी जा सके.

वैक्सीन के बाद भी कोरोना संक्रमण को लेकर प्रशासन चौकस, लॉन्च करेगा ट्रैकिंग प्लेटफॉर्म : सूत्र

ब्रेकथू इनफेक्‍शन के अधिकांश केस में बहुत मामूली संक्रमण ही पाया गया है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

देश में कोरोना ब्रेकथू इनफेक्‍शन (टीके के बाद कोरोना संक्रमण/Breakthrough infection) के मामले आने के बाद प्रशासन 'अलर्ट मोड' में है. ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन (टीके के बाद कोरोना संक्रमण) के लिए वैक्सीन ट्रैकिंग प्लेटफार्म अगले हफ्ते लॉन्च करने की योजना है जिसमें पूरे देशभर के ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन की जानकारी होगी. यह प्‍लेटफॉर्म पब्लिक डोमेन में होगा, इसे तीन तरह के डेटा को मिलाकर बनाया गया है. किस कंपनी की वैक्सीन, आरटी पीसीआर रिपोर्ट और जिनको कोरोना इन्फेक्शन हुआ और उनकी स्थिति कैसी है?

इस प्लेटफॉर्म के के ज़रिए मंत्रालय बताएगा...

1. ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन कितनों को हुआ?

2. कितने अस्पताल में दाखिल हुए?

3. कितनों की मौत हुई?

भारत में पिछले 24 घंटे में 41,195 नए COVID-19 केस, 490 की मौत


दरअसल, इस प्‍लेटफॉर्म के ज़रिए कोशिश लोगों में वैक्‍सीनेशन (Vaccination) को लेकर भरोसे को और पुख्ता करने की है क्योंकि अब तक टीके के बाद लोगों को कोरोना संक्रमण की बात तो है तो अधिकांश केस में तो बहुत मामूली (Mild Infection) संक्रमण ही पाया गया है. साथ ही पाया गया है कि अस्पताल में भर्ती करने की भी नौबत नहीं के बराबर लोगों में आती है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


देशभर में अब तक हुए ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन की एनालिसिस के लिए एक पूरी स्ट्रीम और टीम काम कर रही है. राज्यों से ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन वाले सैंपल मांगे जा रहे हैं और जेनिमिक सीक्वेंसिंग की जा रही है ताकि वायरस के आकार, प्रकार, व्यवहार पर नज़र रखी जा सके. अब तक ऐसे सीक्वेंसिंग में किसी नए वेरिएंट या म्यूटेशन की पुष्टि नहीं हुई है. अगले दो हफ्तों में उम्मीद है कि ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन वाले सैंपल को लेकर ठोस जानकारी आ जाएगी.