दिल्ली हिंसा: कांग्रेस की 5 सदस्यीय कमेटी ने सोनिया गांधी को सौंपी रिपोर्ट, बोली- भड़काऊ भाषण देने वाले BJP नेताओं पर हो FIR

कांग्रेस नेता ने कहा कि दिल्ली चुनाव में अमित शाह ने अपने भाषण में शाहीन बाग को करंट लगाने की बात कही. अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा, प्रवेश वर्मा के भड़काऊ भाषण सबके सामने है,

दिल्ली हिंसा: कांग्रेस की 5 सदस्यीय कमेटी ने सोनिया गांधी को सौंपी रिपोर्ट, बोली- भड़काऊ भाषण देने वाले BJP नेताओं पर हो FIR

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए गठित कांग्रेस की 5 सदस्यीय टीम ने सोनिया गांधी को सौंपी रिपोर्ट

नई दिल्ली:

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए कांग्रेस की ओर से गठित पांच सदस्यीय कमेटी ने अपनी रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को सौंप दी है. कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में गृहमंत्री अमित शाह और पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े करते हुए सोमवार को कहा कि भड़काऊ बयान (हेट स्पीच) देने के आरोपी भाजपा नेताओं पर प्राथमिकी दर्ज करने और हिंसा की न्यायिक जांच कराने की मांग की है. कांग्रेस ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के दौरे के वक्त दिल्ली में दंगे हुए, इससे देश की छवि खराब हुई है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक दंगों 53 लोगों की मौत हुई, 200 से अधिक घायल हुए, 2200 लोग गिरफ्तार हुए हैं. अभी भी पुलिस की कार्रवाई चल रही है. कांग्रेस की पांच सदस्यीय टीम में मुकुल वासनिक, शक्ति सिंह गोहिल, तारिक अनवर, सुष्मिता देव समेत अन्य वरिष्ठ नेता शामिल हैं. 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुकुल वासनिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हमनें दंगा पीड़ितों से मुलाकात की. जो देखने को मिला वो बेहद भयावह था. दर्द को बयान नहीं किया जा सकता. उन्होंने BJP पर धुव्रीकरण का आरोप लगाते हुए कहा कि धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण करना बीजेपी की बुनियादी मान्यता है. लोगों का कहना था कि दंगो में इसकी भी बड़ी भूमिका है. यह अर्थव्यवस्था की खराब हालत, बेरोजगारी जैसे बुनियादी मुद्दों से ध्यान भटकाने की बीजेपी की कोशिश हो सकती है. उन्होंने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह अपनी जिम्मेदारी निभाने में नाकाम रहे हैं इसलिए कांग्रेस ने उनके इस्तीफे की मांग की है. 

दिल्ली हिंसा : पार्षद ताहिर हुसैन का भाई शाह आलम पुलिस हिरासत में, अंकित शर्मा मर्डर केस में हो रही पूछताछ

कांग्रेस नेता ने कहा कि दिल्ली चुनाव में अमित शाह ने अपने भाषण में शाहीन बाग को करंट लगाने की बात कही. अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा, प्रवेश वर्मा के भड़काऊ भाषण सबके सामने है, लेकिन आज तक भड़काऊ भाषण देने वाले नेताओं पर FIR नहीं हुई. अगर हम कहें कि एक बार फिर सरकार राजधर्म निभाने में पूरी तरह फेल हुई तो गलत नहीं होगा. हम बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर, कपिल  मिश्रा, प्रवेश वर्मा और अभय वर्मा पर बिना देरी किए FIR दर्ज करने की मांग करते हैं. 

कांग्रेस नेता ने मांग की है कि दिल्ली हिंसा की जांच के लिए दो SIT बनी है लेकिन हम मांग करते हैं कि स्वतंत्र न्यायिक जांच हो ताकि दंगों की सच्चाई सामने आ सके. जिन पुलिस वालों ने अपनी ड्यूटी नहीं की उनपर कार्रवाई हो. लोगों ने कहा कि पुलिस मूकदर्शी बनी रही. दोनों समुदायों के बीच में पैदा हुई दूरी के मद्देनजर महिलाओं और बच्चों की काउंसलिंग शुरू हो. दिल्ली चुनाव में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में लोगों ने भरोसा दिखाया, लेकिन दंगो के दौरान केजरीवाल ने जिम्मेदारी से कोई भी कदम नहीं उठाया. आज भी राहत और पुनर्वास के काम में दिल्ली सरकार नाकाम नजर आ रही है.

दिल्ली हिंसा पर बोले असदुद्दीन ओवैसी- अमित शाह बताएं, बच्चों के साथ ऐसा सलूक करने वालों पर क्या कार्रवाई होगी?


कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि लोग आपस मे लड़ना नहीं चाहते हैं. बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों ने वोटबैंक की राजनीति की. पीएम का बयान कपड़ो से पहचाने जा सकते हैं से लेकर करंट वाले बयान क्या जताते हैं. जहर घोलने का काम बीजेपी ने कराया. प्रशासन तो केजरीवाल जी के पास था. दंगे नही होते अगर दोनों में से किसी एक ने भी कोशिश की होती. राम का मरे या रहीम का मरे' मेरा वोटबैंक भरे, ये बीजेपी की सोच है. आम आदमी पार्टी दावा करती है सीसीटीवी लगे हैं उनकी फुटेज खंगालनी चाहिए. सुप्रीम कोर्ट के सिटींग जज की अगुवाई में जांच होनी चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो:दिल्‍ली की आग को सोशल मीडिया ने कितना भड़काया?