बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप मामले में भी तीन लोगों की गिरफ्तारी, महिलाओं के खिलाफ नफरत फैलाने का आरोप

पुलिसने एक को करनाल से और 2 को फरीदाबाद से पकड़ा है. सभी आरोपियों से पूछताछ चल रही है.

बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप मामले में भी तीन लोगों की गिरफ्तारी, महिलाओं के खिलाफ नफरत फैलाने का आरोप

मुम्बई पुलिस की साइबर सेल ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार

मुंबई:

Clubhouse app case: मुंबई पुलिस साइबर सेल ने क्लब हाउस केस में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आरोपियों में एक का नाम आकाश (19 साल) है. वहीं दूसरा आरोपी जेशनव कक्कड़ ( 21 साल) है, जो बीकॉम का छात्र है. वहीं तीसरे आरोपी का नाम यश पराशर है. इसकी उम्र 22 साल है. ये लॉ का विद्यार्थी है.

क्लब हॉउस ऍप चैट में महिलाओं के बारे में घिनौनी और क्रूर बातें करने के आरोप में तीनों को गिरफ्तार किया गया है. मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने हरियाणा से गिरफ्तारी की है. यश चैट का मॉडरेटर और स्टॉकर है. ट्रांजिट रिमांड के बाद तीनों को मुंबई लाया जाएगा. दो दिन पहले ही मुंबई की राजा अकादमी ने भी क्लब हाउस चैट में मुस्लिम महिलाओं की बदनामी का आरोप लगाया था. 

वहीं इस मामले पर मुंबई पुलिस के (जॉइंट सीपी) मिलिंद भारम्बे ने कहा है कि क्लब हॉउस नाम के ऑडियो प्लेटफॉर्म पर महिलाओं से जुड़ी अश्लील और घिनौनी चर्चा हुई है. इससे आहत होकर एक महिला ने  शिकायत की थी. उसके बाद 3 मुख्य आरोपियों में से एक को करनाल से और 2 को फरीदाबाद से पकड़ा गया है. इनमें आकाश को करनाल से जेशनव कक्कड़ और यश कुमार परासर को फरीदाबाद से पकड़ा गया है. कुछ महिलओं के बॉडी पार्ट्स के ऑक्शन करने की भी बात हो रही थी. 2 चैट रूम 16 और 19 जनवरी को बनाइ गई थी. उसमे आकाश मोडरेटर है. 

'जांच में मदद के लिए ले गए मुंबई'- Bulli Bai केस में गिरफ्तार चौथे आरोपी के भाई का दावा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि दिल्ली पुलिस ने बुधवार को ‘क्लब हाउस' ऐप को पत्र लिखकर उस कथित ऑडियो चैट समूह के आयोजक के बारे में जानकारी मांगी, जिसमें 'मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ कुछ अश्लील टिप्पणियां की गई थीं.” आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है. दिल्ली पुलिस की ‘इंटेलिजेंस फ्यूज़न ऐंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशन्स' इकाई ने एक दिन पहले ही इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. यह इकाई विशेष प्रकोष्ठ की देखरेख में काम करती है.  इससे पहले‘बुली बाई' ऐप पर सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों को‘नीलामी' के लिए डाल दिया गया था. जिसके बाद काफी हंगामा हुआ था.