कैपिटॉल बिल्डिंग के बाहर तिरंगा लहराने पर वरुण गांधी और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर में भिड़ंत

Capitol Hill Violence: बुधवार के अमेरिकी संसद के दोनों सदनों की बैठक बुलाई गई थी ताकि जो बाइडेन की जीत को प्रमाणित किया जा सके और सत्ता हस्तांतरण का प्रक्रिया शुरू की जा सके लेकिन ट्रंप समर्थकों ने उसे बाधित कर दिया.

कैपिटॉल बिल्डिंग के बाहर तिरंगा लहराने पर वरुण गांधी और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर में भिड़ंत

अमेरिकी संसद के बाहर हंगामे के दौरान भारतीय तिरंगा लहराए जाने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर और बीजेपी सांसद वरुण गांधी में ट्विटर पर बहस हुई है.

खास बातें

  • अमेरिकी संसद भवन के बाहर हंगामें के दौरान लहरा रहा था भापतीय तिरंगा
  • सोशल मीडिया पर इसका वीडियो हुआ वायरल
  • वीडियो पर बीजेपी सांसद वरुण गांधी और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के बीच बहस
नई दिल्ली:

बुधवार (6 जनवरी) को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) के समर्थक अमेरिकी संसद भवन (US Parliament) कैपिटल बिल्डिंग (Capitol Building) में न केवल जबरन घुसे बल्कि वहां हंगामा और विरोध-प्रदर्शन भी किया था. इस दौरान वहां अमेरिकी झंडों के साथ भारतीय तिरंगा भी लहराता दिखा. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने इस पर सवाल उठाया है. गांधी ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, "वहां पर भारतीय झंडा क्यों है ??? यह एक ऐसी लड़ाई है जिसमें हमें निश्चित रूप से शामिल होने की जरूरत नहीं थी."

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने वरुण गांधी के ट्वीट पर तंज कसते हुए कहा कि कई भारतीय ट्रम्प समर्थक की मानसिकता वाले हैं. उन्होंने लिखा, "दुर्भाग्य से, @varungandhi80, कुछ भारतीय भी उसी मानसिकता के साथ हैं जो ट्रम्प समर्थक भीड़ के रूप में हैं, जो गर्व के प्रतीक के बजाय एक हथियार के रूप में राष्ट्रीय ध्वज का उपयोग करने का आनंद लेते हैं. जो उनसे असहमति रखते हैं, उन्हें देशद्रोही करार दे दिया जाता है. वहां वह झंडा लहराया जाना हम सब के लिए एक चेतावनी है." 

इसके जवाब में वरुण गांधी ने लिखा,  "इन दिनों, अपने देश में अपने गौरव का प्रदर्शन करने के लिए हमारे ध्वज का उपयोग करने वाले भारतीयों का उपहास उड़ाना बहुत आसान हो गया है, जबकि नापाक उद्देश्यों के लिए राष्ट्र ध्वज का उपयोग करना  बहुत आसान हो गया है. दुर्भाग्य से, अधिकांश उदारवादियों ने भारत में राष्ट्रविरोधी विरोध प्रदर्शनों (जैसे जेएनयू में) के दौरान तिरंगे के दुरुपयोग की चेतावनियों को भी नजरअंदाज कर दिया है. तिरंगा हमारे लिए गर्व का प्रतीक है, और हम बिना किसी "मानसिकता" के इसका सम्मान करते हैं."@ShashiTharoor

गोलियां चलाईं, शीशे तोड़े : ट्रम्प समर्थकों ने ऐसे अमेरिकी संसद परिसर को रणक्षेत्र में बदल दिया


वरुण गांधी इतने पर ही नहीं रुके. उन्होंने आज एक अमेरिकी सख्स का फोटो शेयर करते हुए थरूर पर निशाना साधा कि कैपिटॉल बिल्डिंग के पास तिरंगा लहराने वाला उनका मित्र था. गांधी ने लिखा, "प्रिय @ShashiTharoor,अब जब हम जान चुके हैं कि वह पागल व्यक्ति आपका प्रिय मित्र है तो कोई यह कैसे नहीं समझे कि इस तबाही के पीछे आप और आपके सहयोगी चुपके से पीछे खड़े नहीं थे."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बुधवार के अमेरिकी संसद के दोनों सदनों की बैठक बुलाई गई थी ताकि जो बाइडेन की जीत को प्रमाणित किया जा सके और सत्ता हस्तांतरण का प्रक्रिया शुरू की जा सके लेकिन ट्रंप समर्थकों ने उसे बाधित कर दिया था.